100 साल में पांचवीं बार इतना सूखा है जून, अगले महीने अच्छे मानसून की संभावना

100 साल में पांचवीं बार इतना सूखा है जून, अगले महीने अच्छे मानसून की संभावना mr bika fb post
इस साल जून महीना भीषण गर्मी से तपा है। मौसम विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार यह बीते 100 साल में पांचवां सबसे ज्यादा सूखा जून का महीना था। इस पूरे महीने में बारिश औसत से 35 फीसदी कम दर्ज हुई है। आमतौर पर इस महीने में 151 मिलीमीटर बारिश होती है लेकिन इस बार ये आंकड़ा 97.9 मिलीमीटर ही रहा है। देश के कुछ राज्यों में मानसून की आमद हो चुकी है और बारिश का असर भी दिखना शुरू हो गया है। मुंबई में पहली बारिश से ही शहर में कई स्थानों पर जलभराव हो गया है। वहीं मध्यप्रदेश के कुछ शहर भी जलमग्न हो गए हैं।

कमजोर रहा मानसून

संभावना है कि जून की समाप्ति के पहले तक 106 से 112 मिलीमीटर बारिश हो सकती है। इससे पहले 2009 में सबसे कम 85.7 मिलीमीटर हुई थी। 2014 में 95.4 मिलीमीटर, 1926 में 98.7 मिलीमीटर और 1923 में 102 मिलीमीटर बारिश दर्ज हुई थी। 2009 और 2014 ऐसे साल थे, जब अल-नीनो के प्रभाव के चलते मानसून कमजोर रहा। इस साल भी ऐसी ही स्थिति बताई जा रही है।

कैसे प्रभावित होता है मानसून?

अल-नीनो के प्रभावित रहने से पूर्वी और मध्य प्रशांत महासागर की सतह में असामान्य रूप से गर्मी की स्थिति रहती है। जिससे हवाओं का चक्र प्रभावित होता है। ये चक्र भारतीय मानसून पर विपरीत प्रभाव डालता है।
Zomato  100 साल में पांचवीं बार इतना सूखा है जून, अगले महीने अच्छे मानसून की संभावना o2 badge r

COMMENTS

You cannot copy content of this page