fbpx

14वां स्वर्णप्राशन संस्कार आयोजित, साढे छह सौ बच्चों ने गटकी दो-दो बूंद

14वां स्वर्णप्राशन संस्कार आयोजित, साढे छह सौ बच्चों ने गटकी दो-दो बूंद  14वां स्वर्णप्राशन संस्कार आयोजित, साढे छह सौ बच्चों ने गटकी दो-दो बूंद IMG 20191022 WA0045

बीकानेर, 23 अक्टूबर। हमारा उन्नति संस्थान द्वारा संस्कृति आर्य गुरुकुलम् राजकोट के सहयोग से ग्यारहवां निःशुल्क स्वर्णप्राशन संस्कार समारोह मंगलवार को पुष्यनक्षत्र के अवसर पर आयोजित किया गया। प्रवक्ता केसरी चंद पुरोहित ने बताया कि इस दौरान ग्यारह केन्द्रों पर शून्य से 14 वर्ष तक के साढे छह सौ से अधिक बच्चों ने स्वर्णप्राशन की दवा ली। उन्होंने बताया कि स्वर्णप्राशन बच्चों के लिए आयुर्वेदिक महावरदान है। महर्षि कश्यप द्वारा लगभग 3 हजार वर्ष पूर्व इसे बनाया गया। कश्यप संहिता में इसका वर्णन मिलता है। उन्होंने बताया कि अब तक 13 बार चार हजार से अधिक बच्चों का यह दवा दी जा चुकी है। स्वर्णप्राशन की दो बूंद हमेशा लेने वाले बच्चों को आशातीत लाभ हुआ है। संस्थान द्वारा इनका संकलन किया जा रहा है। शीघ्र ही इन ‘केस स्टडीज’ को विभिन्न माध्यमों से शेयर किया जाएगा। उन्होंने बताया कि शनिवार को लक्ष्मीनाथ मंदिर परिसर के सत्संग भवन, रूद्र युवा विकास मंच कार्यालय, जयनारायण व्यास काॅलोनी में करंट बालाजी मंदिर, विवेकनाथ बगीची के पास बाबा स्वदेशी केन्द्र, मुरलीधर व्यास नगर के पुष्प विला, गंगाशहर के ऋषभदेव नेचुरल तथा मां करणी इंद्र बाईसा मंदिर, गोगागेट सर्किल स्थित गणेश मंदिर, गोस्वामी चौक स्थित हैल्पिंग हैंड फाउण्डेशन, जनता प्याऊ के पास स्थित गायत्री मेडिकल एवं जनरल स्टोर तथा पुरानी गिन्नाणी स्थित गायत्री शक्तिपीठ में यह समारोह आयोजित किया गया।

COMMENTS

WORDPRESS: 0