21 सितंबर को बंद रहेगी 247 मंडियां , जानिए वजह

21 सितंबर को बंद रहेगी 247 मंडियां , जानिए वजह  21 सितंबर को बंद रहेगी 247 मंडियां , जानिए वजह

कृषि से जुड़े तीन अध्यादेशों के लोकसभा में पास किए जाने के विरोध में किसानों ने 21 सितंबर को प्रदेश की 247 मंडियों को बंद करने का एलान किया है। किसान महापंचायत के बैनर तले किसानों ने इसकी घोषणा की है। महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने कहा कि 21 सितंबर को किसान मंडी में इन तीन अध्यादेशों की प्रति जलाकर विरोध प्रदर्शन करेंगे। अपनी मोटरसाइकिल और ट्रेक्टरों पर काले झंडे लगाएंगे।

21 सितंबर को बंद रहेगी 247 मंडियां , जानिए वजह prachina in article 1

उनका कहना था कि प्रदेश के व्यापारियों ने भी उनके बंद को समर्थन दिया है। साथ ही मंडियों में काम करनेवाले मजदूरों में पल्लेदारों और हमालों ने भी कानून को गरीबों के लिए घातक बताते हुए मंडी बंद का समर्थन किया है। विशेषकर कोटा में भामाशाह मंडी में काम करने वाले मजदूर नेताओं ने कोटा में किसान महापंचायत की संभाग स्तर की बैठक में इस बंद को समर्थन दिया साथ मजदूर नेताओं ने मंडी बंद को सफल करने के लिए साइकिल से जनजागरण यात्रा की। लगातार इन अध्यादेशों का विरोध कर रहे हैं। कोरोना काल में उन्हें सड़कों पर उतरना पड़ रहा है लेकिन केंद्र सरकार बहुमत जाने बिना ही इन विधोयकों को पारित करवा रही है। इतना ही नहीं अध्यादेशों और विधेयकों की प्रति हिंदी और अन्य प्रादेशिक भाषाओं में भी उपलब्ध नहीं करवाई गई और आनन फानन में इसे कानून बनाने का रास्ता साफ किया गया। केंद्र सरकार की नीतियों के कारण किसान बाजरा, मक्का, चना, मूंग आदि की उपजों को घोषित समर्थन मूल्य से 1000 से लेकर तीन हजार रुपए प्रति क्विंटल घाटा उठाकर बेचने पर मजबूर है।

COMMENTS