बीकानेर

विद्यालयों में शैक्षणिक माहौल बेहतरी की तरफ अग्रसर हो-जिला कलेक्टर कलाल

बीकानेर। जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने कहा कि स्कूलों में शिक्षा के उन्नयन के लिए सभी राजकीय विद्यालय में बैठक आयोजित कर संबंधित प्रधानों को निर्देशित किया जाए। उन्होंने  कहा कि जिले के विद्यालयों में शैक्षणिक माहौल निरंतर बेहतरी की तरफ अग्रसर हो तथा गुणवत्तापूर्ण शिक्षण कार्य हो, इसके लिए सभी अधिकारी पूरी निष्ठा और समर्पण के साथ कार्य करें।

जिला कलक्टर कलाल शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में समग्र शिक्षा अभियान अंतर्गत जिला निष्पादक समिति एवं मिड डे मिल संबंधी बैठक में व्यापक समीक्षा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने समग्र शिक्षा अभियान द्वारा करवाये जा रहे समस्त भवन निर्माण कार्य की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के निर्देश और कहा कि सभी कार्य समय पर पूर्ण किये जाए। उन्होंने कहा कि संबंधित ब्लाक में पदस्थापित कनिष्ठ अभियंता और ब्लॉक मुख्य शिक्षा अधिकारी के साथ निर्माण कार्याे का निरीक्षण करें। विद्यालयों में नियमित रूप से भ्रमण कर कार्य को गुणवत्ता पूर्वक करवाया जाना सुनिश्चित करें।  समग्र शिक्षा अभियान के तहत विभिन्न पाठशालाओं में चल रहे निर्माण कार्य पूर्ण गुणवता के साथ समय पर पूरे किए जाये। समय पर कार्य पूरे नहीं होने पर संबंधित अधिकारी इसके लिए जिम्मेदार होंगे। सभी अधिकारी नियमित रूप से स्कूलों का निरीक्षण करें, इस दौरान स्कूल में पाई जाने वाली कमियों के बारे में अपनी पूरी रिपोर्ट विजिटर्स रजिस्टर में दर्ज करेंगे।

सभी विद्यालयों में आईसीटी लैब रहे क्रियाशील-
जिला कलकटर विद्यालयों में आईसीटी लैब की जानकारी ली और शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले की सीनियर सैकण्डरी व सैकण्डरी स्कूलों में आईसीटी लैब सुव्यवस्थित एवं क्रियाशील रहे यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने विद्यालयों में इंटरनेट का कनेक्शन और कंप्यूटर की उपलब्धता के बारे में भी जाना। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र की स्कूलों में आईसीटी लैब के उपयोग की जानकारी ली और इसे अनिवार्य रूप से क्रियाशील रखने के निर्देश दिए। उन्होंने जिले की माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों में विषय अध्यापकों के बारे में जानकारी ली और निर्देश दिए कि रिक्त पदों की सूचना दी जाए।

कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों को रखे अपडेट

जिला कलक्टर  ने विद्यालयों और कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में साफ-सफाई की समीक्षा करते हुए विद्यालयों में शौचालय को साफ सुथरा व व्यवस्थित रखवाने के लिए संबंधित सीबीईओ को निर्देशित करते हुए कहा कि इस कार्य की मॉनिटरिंग करवाई जाये। उन्होंने सभी विद्यालयों में शौचालय की उपलब्ता की भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों छात्राओं के बिस्तर, दीवारे आदि साफ-सुथरी और खिड़िकियों पर जाली लगी होनी चाहिए।
खेल मैदान विकसित हो-जिला कलक्टर ने जिले के विद्यालयों में खेल मैदानों की उपलब्धता की जानकारी ली और कहा कि सभी मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी अपने-अपने ़क्षेत्र की पांच-पांच स्कूलों में खेल मैदान विकसित करे। इन खेल मैदानों में एक से अधिक खेल खेले जा सके, ऐसा तैयार किया जाये। उन्होंने कहा कि खेल मैदान को विकसित करने के लिए 50 लाख रूपये मनरेगा में स्वीकृत किए जायेंगे। सभी सीबीईओ अपने सुपरविजन में खेल मैदान विकसित करवाएं।
जिला कलक्टर ने जिले के विद्यालयों में खाद्यान्न उपलब्धता की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि बच्चों को मिड-डे मील मिलना ही चाहिए, वो भी गुणवक्तायुक्त। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में खाद्य सामग्री समाप्त नहीं होनी चाहिए, ऐसा कभी नहीं होना चाहिए कि बच्चों को मिड डे मिल ना मिले। अधिकृृत ठेकेदार व कार्मिक खाद्यान्न का उठाव नहीं करते है तो उनके विरूद्ध कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। उन्होंने विद्यालयों में कॉम्बो पैक का समय पर वितरण करने के भी निर्देश दिए।
उन्होंने आने वाले शाला प्रवेशोत्सव से पहले डोर-टू-डोर सर्वे कर शाला से वंचित बच्चों को चिन्हित करने के निर्देश दिए। वर्तमान सत्र में कितने छात्र बीच में विद्यालय छोड़ चुके है और उन्होंने विद्यालय क्यों छोड़ा है, उसकी जानकारी ली जाए। साथ ही जो बच्चे स्कूल नहीं जा रहे है, उनके माता-पिता को शिक्षा के महत्व के बारे में बताया जाए। उन्होंने कहा कि सभी बच्चे विशेषकर बालिकाएं कम से 12 वीं तक की  शिक्षा ग्रहण करे, यह सुनिश्चित किया जाए।
जिला कलक्टर ने विद्यालयों में शौचालय,पेयजल, विद्यालय व खेल मैदान के ऊपर विद्युत लाइन और बिना बिजली कनेक्शन के चल रहे स्कूलों में बारे में भी जानकारी ली।
बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक सुरेद्र सिंह भाटी ने विभिन्न बिंदुओं पर जिले की स्थिति एवं प्रगति से अवगत कराया। समग्र शिक्षा के अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक हेतराम सारण में समग्र शिक्षा की प्रगति के बारे में जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री जन सहभागिता योजना, सिविल कार्य तथा स्माइल प्रोजेक्ट आदि के बारे में बताया। जिला शिक्षा अधिकारी (प्रारंभिक) अनिल पारीक ने पोषाहार वितरण में जिले की स्थिति से अवगत कराया और कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार जिले में पोषाहार वितरण कार्य सुनिश्चित किया जा रहा है।
बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) बलदेव राम धोजक, मुख्य कार्यकारी अधिकारी नित्या के., जिला रसद अधिकारी भागूराम मेहला, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.बी.एल.मीना, सहायक परियोजना समन्वयक समग्र शिक्षा कैलाश बड़गुजर सहित जिले के सभी ब्लॉक मुख्य शिक्षा अधिकारी उपस्थित थे।

What's your reaction?