राजस्थान

मिलावटखोरों को होगी उम्रकैद , शुरू होगा अभियान , सूचना देने पर 51 हजार का ईनाम

राजस्थान सरकार दीपावाली के सीजन को देखते हुए मिलावट और नकली खाने-पीने की चीजों के खिलाफ बड़ा धरपकड़ अभियान चलाने जा रही है। मिलावटखोरों को कड़ी सजा दिलाने और उनके खिलाफ सख्त एक्शन के लिए राजस्थान सरकार ने गृह विभाग के तहत आईपीसी की धाराओं में संशोधन के लिए केंद्र सरकार सरकार को जरूरी प्रस्ताव भेज रखा है। जो लागू हुआ तो सख्ती से मिलावटखोरों से सरकार निपट सकेगी।

18 सितम्बर 2021 को राजस्थान विधानसभा से दी क्रिमिनल लॉज राजस्थान अमेंडमेंट बिल-2021 (दण्ड विधियां राजस्थान संशोधन विधेयक-2021) पास होने के बाद केंद्र को भेजा गया था। उसे जल्द पास करवाने के लिए राज्य सरकार केंद्र से फॉलो अप ले रही है। उम्मीद है जल्द यह संशोधन केंद्र से पास होगा, अमेंडमेंट केंद्र सरकार लागू करती है, तो यह मिलावटखोरी और नकली प्रोडक्ट्स बेचने वालों के खिलाफ कड़ी सजा का प्रोविजन करेगा।

इन प्रोडक्ट्स की जांच को प्राथमिकता दें

मुख्यमंत्री ने कहा कि विशेष अभियान के दौरान दूध, मावा, पनीर, मिठाइयों, दूध से बने अन्य उत्पादों, आटा, बेसन, खाद्य तेल, घी, ड्राय फ्रूट्स, मसाले, अन्य खाद्य पदार्थों, बाट और माप की जांच को प्राथमिकता दी जाए। खाद्य पदार्थों में मिलावट कर प्रदेशवासियों की सेहत से खिलवाड़ करने वाले उत्पादकों, थोक विक्रेताओं और बड़े खुदरा विक्रेताओं के खिलाफ मौके पर ही सख्त कार्रवाई की जाए। उन्होंने अधिकारियों को जांच के लिए सैम्पल लेने, उनकी टेस्टिंग रिपोर्ट, मौके पर नष्ट की गई सामग्री, दर्ज की गई एफआईआर की कार्यवाही का रिव्यू करने के लिए भी निर्देश दिए। गहलोत ने कहा प्रदेश में सैम्पल टेस्टिंग की 7 नई लैब लगाई जा रही हैं।

मिलावटखोरी की सूचना देने पर 51 हजार का ईनाम

मिलावटखोरी या नकली सामान की सूचना देने वाले को 51 हजार रुपए का ईनाम भी सरकार देगी। खाद्य पदार्थों में मिलावट करने और ऐसे प्रोडक्शन करने वालों के खिलाफ इफेक्टिव कार्रवाई होगी। सूचना देने वाले को अनसेफ फूड पाए जाने पर 51 हजार रुपए और सब-स्टैंडर्ड फूड होने पर 5000 रुपए की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।सीएम अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री निवास पर ‘शुद्ध के लिए युद्ध’ अभियान के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक को सम्बोधित करते हुए अफसरों को कहा कि चालान के वक्त ही प्रोत्साहन राशि का आधा पैसा सूचना देने वाले व्यक्ति को दे दिया जाए।

What's your reaction?