बीकानेर में कोरोना के साथ साथ डेंगू का खतरा बढ़ा, ऐसे बचे डेंगू से

बीकानेर में कोरोना के साथ साथ डेंगू का खतरा बढ़ा, ऐसे बचे डेंगू से [object object] बीकानेर में कोरोना के साथ साथ डेंगू का खतरा बढ़ा, ऐसे बचे डेंगू से sfdggf

 बीकानेर । एक ओर तो बीकानेर में कोरोना के रोगियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। वहीं दूसरी ओर अब डेंगू ने भी पांव पसारना शुरू कर दिया हैं। जिसके चलते डेंगू के मरीज भी अस्पतालों व डिस्पेसरियों में पहुंचने लगे है। हालात यह है कि इससे बच्चे अधिक प्रभावित है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बीएल मीणा ने बताया कि डेंगू के रोगी आ रहे हैं,हर रोज चार से पांच रोगी डेंगू के मिल रहे हैं। इनमें बच्चों की संख्या अधिक है। हालांकि स्थिति नियंत्रण में है। फिर भी पीबीएम के शिशु चिकित्सालय में भी डेंगू के रोगी लगातार पहुंच रहे हैं।

[object object] बीकानेर में कोरोना के साथ साथ डेंगू का खतरा बढ़ा, ऐसे बचे डेंगू से prachina in article 1

ऐसे बच सकते हैं डेंगू से

डॉ. सेंगर का कहना है कि डेंगू का मच्छर ठंडी जगह देखता है। ऐसे में घर में आसपास जहां भी पानी एकत्र होता है, वहां एक चम्मच तेल डाल देना चाहिए। मच्छरों को देखते ही नष्ट करने का प्रयास करना चाहिए। डेंगू का मच्छर नालियों के साथ ही स्वच्छ पानी में ज्यादा पनपते हैं।

शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. घनश्याम सिंह सेंगर ने बताया कि अस्पताल में अभी भी पांच-सात बच्चे डेंगू के कारण भर्ती है। अधिकांश रोगियों को घर पर ही इलाज दिया जा रहा है। ज्यादा गंभीर होने पर या प्लेटलेट्स पचास हजार से भी कम होने पर रोगी को भर्ती किया जा रहा है। डॉ. सेंगर ने बताया कि अक्टूबर माह में डेंगू के मामले अधिक आते हैं लेकिन इस बार नवम्बर मध्य तक डेंगू के रोगी कम नहीं हुए हैं।

 

COMMENTS