बीकानेरराजस्थान

Amarnath Yatra 2023 : बाबा बर्फानी के भक्तों के लिए बड़ी खबर

Amarnath Yatra 2023 : 1 जुलाई से शुरू हुई अमरनाथ यात्रा खराब मौसम के चलते फिलहाल के लिए रोक दी गई है. मौसम ठीक होने के बाद ही श्रद्धालुओं को आगे जाने की अनुमति दी जाएगी. मौसम के खराब होने चलते आज बालटाल और नुनवान में श्री अमरेश्वर धाम की तीर्थ यात्रा को रोक लिया गया है. खराब मौसम होने के चलते किसी भी तीर्थ यात्री को पवित्र गुफा की तरफ जाने की अनुमति नहीं दी गई है. श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के अधिकारियों के मुताबिक मौसम के साफ होने पर ही श्रद्धालुओं को आगे की तीर्थ यात्रा की अनुमति दी जाएगी.

गुरुवार को 17202 श्रद्धालुओं ने बाबा बर्फानी के दर्शन किए. वहीं यात्रा शुरू होने से अब तक कुल 84768 श्रद्धालु दरबार में हाजिरी लगा चुके हैं. 1 जुलाई को 3400 से अधिक श्रद्धालुओं के पहले जत्थे को रवाना किया गया था. बता दें कि यह यात्रा 62 दिन तक चलेगी. अमरनाथ यात्रा को लेकर सेना के जवान सुरक्षा व्यवस्था चौकस रखने में ड्रोन, डॉग स्कवायड और चप्पे-चप्पे पर निगरानी तलाशी के जरिये कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. बता दें कि पिछली बार 3.60 लाख श्रद्धालु दर्शन के लिए आए थे. वहीं इस बार उम्मीद है कि यह आंकडा 6 लाख के पार जा सकता है.

 

Amarnath Yatra 2023: The Amarnath Yatra, which started from July 1, has been stopped for the time being due to bad weather. Devotees will be allowed to go ahead only after the weather is fine. Due to bad weather, the pilgrimage to Shri Amreshwar Dham in Baltal and Nunwan has been stopped today. Due to bad weather, no pilgrim has been allowed to go towards the holy cave. According to the officials of the Shri Amarnath Shrine Board, only after the weather clears up, the pilgrims will be allowed to proceed for the pilgrimage.

On Thursday, 17202 devotees visited Baba Barfani. At the same time, since the beginning of the journey, a total of 84768 devotees have attended the court. On July 1, the first batch of more than 3400 pilgrims was flagged off. Please tell that this journey will last for 62 days. Army personnel are leaving no stone unturned to keep the security system alert regarding the Amarnath Yatra through drones, dog squads and surveillance searches on every spot. Please tell that last time 3.60 lakh devotees had come for darshan. At the same time, it is expected that this figure can go beyond 6 lakhs.

What's your reaction?