भूस्खलन में फंसा था आसिफा का परिवार, CRPF ने 12 किमी पैदल चल पहुंचाया खाना

भूस्खलन में फंसा था आसिफा का परिवार, CRPF ने 12 किमी पैदल चल पहुंचाया खाना jammu kashmir news भूस्खलन में फंसा था आसिफा का परिवार, CRPF ने 12 किमी पैदल चल पहुंचाया खाना 05 01 2020 crpf madadgaar 19909368

घुप अंधेरा, तापमान शून्य से दो डिग्री अधिक, बर्फीली हवाएं कंपकंपी छुड़ा रही थीं और बर्फ से लदे पहाड़ों से पत्थर गिर रहे थे। इसके चलते कई किमी. तक वाहनों की कतार में सैकड़ों यात्री फंसे थे। बच्चे भूखे-प्यासे बिलख रहे थे। ऐसे में आसिफा के मात्र एक फोन पर जानलेवा मौसम की परवाह किए बिना सीआरपीएफ के जवानों ने 12 किलोमीटर पैदल चल फंसे यात्रियों और उनके बच्चों के लिए खाने का सामान व दूध पहुंचाया।

jammu kashmir news भूस्खलन में फंसा था आसिफा का परिवार, CRPF ने 12 किमी पैदल चल पहुंचाया खाना prachina in article 1

यह घटना जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर रामबन जिले के डिगडोल क्षेत्र की है। श्रीनगर निवासी आसिफा नाम की महिला तीन बच्चों व अन्य परिवार के सदस्यों के साथ श्रीनगर से जम्मू की तरफ आ रही थी, लेकिन भूस्खलन के कारण रामबन के पास डिगडोल में सभी लोग फंस गए। उनके पास खाने के लिए कुछ नहीं था।

मददगार की आई याद

हिमस्खलन में फंसने आसिफा को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की हेल्पलाइन मददगार की याद आई और उन्होंने उससे संपर्क किया। जैसे ही मददगार डेस्क से सीआरपीएफ जवानों को जानकारी मिली, वे तुरंत हरकत में आए। राजमार्ग बंद होने के कारण उन्हें पैदल ही चलना पड़ा। आसपास के पूरे क्षेत्र में बर्फबारी हुई थी। बर्फीली हवाएं चल रही थीं। इसके बावजूद जवान 12 किलोमीटर का पैदल सफर तय करके डिगडोल पहुंचे।

सीआरपीएफ जवान 157 बटालियन के इंस्पेक्टर रघुवीर ¨सह के नेतृत्व में पीडि़त परिवार के पास पहुंचे और उन्हें खाना, पानी और जरूरत का अन्य सामान उपलब्ध करवाया। मददगार डेस्क ने 84 बटालियन से संपर्क किया और इसके बाद सबसे नजदीक स्थित कंपनी के पास संदेश भेजा। इसके बाद उन्होंने परिवार तक मदद पहुंचाई। चंद घंटों में ही खाने-पीने के सामान के साथ जवानों को पास देख पीडि़त परिवार की खुशी का ठिकाना नहीं रहा और बार-बार वे उनका आभार जता रहे थे। यह ऐसी पहली घटना नहीं है कि सीआरपीएफ जवानों ने विपरीत परिस्थितियों में जरूरतमंदों की मदद की हो, इससे पहले भी हजारों लोगों की मदद कर चुके हैं

 

COMMENTS