बीकानेर : खेल-खेल में गई 5 बच्चों की जान , एक बालक सहित चार बालिकाओं की मौत

बीकानेर : खेल-खेल में गई 5 बच्चों की जान  , एक बालक सहित चार बालिकाओं की मौत  बीकानेर : खेल-खेल में गई 5 बच्चों की जान  , एक बालक सहित चार बालिकाओं की मौत ccjdhdj

बीकानेर : खेल-खेल में गई 5 बच्चों की जान  , एक बालक सहित चार बालिकाओं की मौत mr bika fb post

 बीकानेर । जिले के नापासर गांव में रविवार दोपहर को दर्दनाक हादसे में 5 बच्चों की मौत हो गई। मृतकों में 4 सगे भाई-बहन हैं। सभी की उम्र 8 साल से कम है। हादसा बच्चों के लुका-छिपी खेलने के दौरान हुआ। बच्चे छिपने के लिए घर में रखी अनाज की कोठरी (टंकी) में बंद हो गए। इसके बाद कोठरी का ढक्कन अचानक बंद हो गया। दम घुटने से सभी की मौत हो गई। 4 बच्चों की मां ने जब दोपहर में आकर बच्चों को संभाला तो अनाज की कोठरी में अपने चार बच्चों सहित पांच बच्चों की लाश देखकर बेसुध हो गई।

बीकानेर : खेल-खेल में गई 5 बच्चों की जान  , एक बालक सहित चार बालिकाओं की मौत prachina in article 1

हादसा नापासर के हिम्मतासर गांव में हुआ। यहां किसान भीयाराम का परिवार खेत में गया हुआ था। इसी दौरान पांच बच्चे घर पर थे। इसमें चार भीयाराम के बेटे-बेटियां थे जबकि एक उनकी भांजी थी। भीयाराम का बेटा सेवाराम (4 साल) के अलावा तीन बेटियां रविना (7 साल) राधा (5 साल) और टींकू उर्फ पूनम (8 साल) के साथ ही भीयाराम की भांजी माली पुत्री मघाराम घर पर खेल रहे थे।

इस दौरान सभी बच्चे लोहे की चादर से बनी अनाज की कोठरी में घुस गए। बच्चों के कोठरी के अंदर घुसने के बाद उसका ढक्कन नीचे आ गया और स्वत: ही बंद हो गया। इस तरह की कोठरी का दरवाजा नीचे गिरते ही बंद हो जाता है। टंकी की गहराई 5 फीट और चौड़ाई करीब 3 फीट रही है। बच्चों ने इसे खोलने का प्रयास भी किया होगा, लेकिन अंदर से वो खुल नहीं सकता था और आवाज सुनने वाला घर में कोई नहीं था। बच्चों ने कुछ देर जीवन के लिए संघर्ष भी किया होगा लेकिन खुद को बचा नहीं सके।

COMMENTS