‘सोणो राजस्थान’ और ‘विहंगम राजस्थान’ में छाई बीकानेर की कलाकृतियां

‘सोणो राजस्थान’ और ‘विहंगम राजस्थान’ में छाई बीकानेर की कलाकृतियां  ‘सोणो राजस्थान’ और ‘विहंगम राजस्थान’ में छाई बीकानेर की कलाकृतियां 123

‘सोणो राजस्थान’ और ‘विहंगम राजस्थान’ में छाई बीकानेर की कलाकृतियां mr bika fb post

बीकानेर। पर्यटन विभाग, कला एवं संस्कृति विभाग, राजस्थान ललित कला अकादमी एवं जवाहर कला केन्द्र के संयुक्त तत्वावधान में राजस्थान दिवस के अवसर पर जयपुर मेंआयोजित पांच दिवसीय कला प्रदर्शनी ‘सोणो राजस्थान’ एवं फोटो प्रदर्शनी  ‘विहंगम राजस्थान’ में बीकानेर के कलाकारों की कलाकृतियों  को भरपूर सराहना मिल रही है।
‘सोणो राजस्थान’ कला प्रदर्शनी में राज्य के 110 कलाकारों की 167 कलाकृतियां एवं मूर्तिशिल्प प्रदर्शित किये गये हैं। वहीं  ‘फोटो प्रदर्शनी’ 54 फोटोग्राफर के 85 फोटो प्रदर्शित किये गये ।

‘सोणो राजस्थान’ और ‘विहंगम राजस्थान’ में छाई बीकानेर की कलाकृतियां prachina in article 1

इस प्रदर्शनी में बीकानेर के वरिष्ठ कलाकार महावीर स्वामी ने मिनिएचर शैली में महात्मा बुद्ध की चित्रकृति तथा डाॅ. रजनीश हर्ष ( सचिव राजस्थान ललित कला अकादमी) ने अपनी कृति के माध्यम से – नाट्य कला के नौ रस को दर्शाया है । इसी प्रकार कमल किशोर जोशी ने रामपुरिया हवेली को अपनी आलौकिक दृष्टि से देखते हुये चित्रित किया है । श्रीकांत रंगा ने बचपन की यादों को हवेलियों और विंटेज कार के माध्यम से दिखाया है। अनिकेत कच्छावा ने स्कूल बेग से जुड़ी कृतियों को चित्रित किया है । मालचन्द पारीक ने रिसायत कालीन कोर्ट कचहरी में चलने वाले स्टाम्प के साथ गणगौर को दर्शाया है । वहीं बीकानेर के मोना सरदार डूडी ने अपनी कुरेचन पद्धति से अपनी भावनाओं को अपने चित्रों में दिखाया तथा इसके साथ-साथ अजीज भुट्टो ने अपनी फोटोग्राफी में बीकानेर की हवेलियों व पणिहारण का छाया चित्र तथा मनीष पारीक ने 360 डिग्री, बीकानेर की दीवाली व बीकानेर को दर्शाया है । बीकानेर के इन सभी कलाकारों की कृतियों एवं छाया चित्रों को दर्शकों द्वारा सराहा जा रहा है । प्रदर्शनी का उद्घाटन 30 मार्च को हुआ था। यह 5 अप्रैल तक आमजन के अवलोकनार्थ खुली रहेगी।

COMMENTS