बीकानेर नगर स्थापना दिवस पांच दिवसीय समारोह प्रारंभ , सूचना केंद्र में लगाई सिक्कों, नोट, की प्रदर्शनी

3 Min Read

बीकानेर। बीकानेर नगर के 535वें स्थापना दिवस के अवसर पर जिला प्रशासन की ओर से पांच दिवसीय कार्यक्रमों की गुरुवार को शुरुआत हुई। इसके तहत सूचना केन्द्र में सेवानिवृत बैंक अधिकारी भारत भूषण गुप्ता द्वारा संकलित नोट, सिक्के, चैक, डाक टिकट और अंतर्देशीय पत्रों की दो दिवसीय प्रदर्शनी प्रारंभ हुई। जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने इसका उद्घाटन किया।

इस अवसर पर जिला कलक्टर ने कहा कि इस प्रदर्शनी से आमजन को आजादी से पूर्व देश के वित्तीय प्रबंधन और इसके क्रमिक विकास की जानकारी मिलेगी। उन्होंने इसे युवाओं के लिए बेहद उपयोगी बताया। उन्होंने कहा कि प्रत्येक शहर वासी नगर के स्थापना दिवस को पूरे उत्साह से मनाएं। उन्होंने शहर के सर्वांगीण विकास में आमजन की भूमिका को महत्त्वपूर्ण बताया और कहा कि शहर की आगामी दो तीन दशक की आवश्यकताओं के दृष्टिगत सुझाव दें। इस दौरान उन्होंने बीकानेर की परम्पराओं और रीति रिवाज को देशभर में विशिष्ट बताया। उन्होंने भारत भूषण गुप्ता द्वारा किए गए कार्य को युवा पीढ़ी के लिए अनुकरणीय बताया। उन्होंने कहा कि बीकानेर स्थापना दिवस के अवसर पर में जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न संस्थाओं के सहयोग से कार्यक्रम आयोजित करवाए जाएंगे।

भारत भूषण गुप्ता ने बताया कि प्रदर्शनी में अप्रचलित स्मारक सिक्के, स्वतंत्रता से पूर्व ब्रिटिश सरकार द्वारा चलाई गई मुद्राएं एवं स्वतंत्रता के बाद भारत सरकार द्वारा समय-समय पर जारी नोट, सिक्के, बीकानेर के पूर्व राजघरानों द्वारा समय-समय पर जारी की गई मुद्रा, देशी एवं विदेशी डाक टिकट प्रदर्शित किए गए हैं। इनके अलावा राज्य की विभिन्न रियासतों के सिक्के एवं नोट, ईस्ट इण्डिया कम्पनी तथा ब्रिटिश सम्राज्य के कोर्ट स्टाम्प, विदेशी नोट एवं सिक्के, विभिन्न बैंको के समय-समय पर जारी चैक, पोस्टल ऑर्डर, स्टाम्प पेपर, कोर्ट फीस टिकट भी रखे गए हैं।

- Advertisement -

वरिष्ठ साहित्यकार राजेंद्र जोशी ने कहा कि बीकानेर की गंगा जमुनी संस्कृति शहर के 534 वर्षों की सबसे बड़ी विशेषता है। यह पूरे देश के लिए मिसाल है।
सूचना एवं जनसम्पर्क कार्यालय के सहायक निदेशक हरिशंकर आचार्य ने बताया कि प्रदर्शनी शुक्रवार प्रातः 10.30 बजे से सायं 6 बजे तक खुली रहेगी। इस अवसर पर बैंक ऑफ बड़ौदा के सहायक महाप्रबंधक नितिन अग्रवाल, डॉ. एसएन हर्ष, कैलाश खरखोदिया, डॉ. प्रभा भार्गव, अरुणा भार्गव, राजेंद्र भार्गव, जनसंपर्क विभाग के सेवानिवृत संयुक्त निदेशक दिनेश चंद्र सक्सेना, सुखदेव रंगा, फिरोज खान आदि मौजूद रहे।

Share This Article