बीकानेर:बैंक व डाकघर में हुई लूट की वारदातों का हुआ खुलासा, दो आरोपी गिरफ्तार

बीकानेर:बैंक व डाकघर में हुई लूट की वारदातों का हुआ खुलासा, दो आरोपी गिरफ्तार  बीकानेर:बैंक व डाकघर में हुई लूट की वारदातों का हुआ खुलासा, दो आरोपी गिरफ्तार bikanerloot

बीकानेर:बैंक व डाकघर में हुई लूट की वारदातों का हुआ खुलासा, दो आरोपी गिरफ्तार mr bika fb post

बीकानेर। शहर में राजस्थान मरुधरा बैंक में जनवरी माह में दो अज्ञात व्यक्ति बैंक में घुसकर पिस्तौल की नोंक पर बैं की तिजोरी में रखे 10.77 लाख रुपये की लूट कर भाग गये थे। इसी तरह 12 सित. को सुबह 10 बजे डाकघर में हथियारों से लैस होकर दो अज्ञात व्यक्ति घुसे और फायरिंग की दहशत का माहौल बनाकर तीन लाख रुपये लूट कर भाग गये। घटना के बाद से पुलिस इनको पकडऩे के लिए काफी कोशिश लेकिन पकड़ नहीं आ रहे थे। इस पर आईपीएस प्रफुल्ल कुमार एसपी प्रीति चन्द्रा ने प्रेस वार्ता ने इन वारदातों का खुलासा किया उन्होंन्रे बताया कि व आरोपियों को पकडऩे के लिए एक टीम का गठन किया। टीम ने अपना कार्य करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार किया जिसमें धीरज उर्फ धर्मप्रीतसिंह पुत्र जसंवत सिंह निवासी सेक्टर नंबर मुक्ता प्रसाद, धीरज पुत्र नरसिंह मेघवाल निवासी सर्वादय बस्ती बीकानेर को पुलिस ने पकड़ा है।
धीरज उर्फ धर्मप्रीतसिंह पर नयाशहर थाने में करीब 4 अलग अलग धाराओं में मामले पहले से दर्ज है।

बीकानेर:बैंक व डाकघर में हुई लूट की वारदातों का हुआ खुलासा, दो आरोपी गिरफ्तार prachina in article 1

इन लोगों ने पुलिस ने की पूछताछ
बजरंग मंगलरव, जीतू माली, अशोक बिश्नोई, शिवसिंह भलूरी, विक्रम बिश््रनोई, भवानीसिंह, श्रवण मेघवाल, हनुमान जाट, अमित मिश्रा, बजरंग बिश्नोई, सुभाष बिश्नोई, श्याम बिश्नोई, प्रेमरतन उर्फ ढक्कणिया, अजरुदीन व धर्मचंद सोनी से पुलिस ने पूछताछ की रिकार्ड संकलित किया था।

वारदात करने का तरीका
पुलिस ने बताया आरोपी बीकानेर शहर के कम भीड़भाड वाले जगह पर स्थित फाइनिश्यल, सरकारी कार्यालय, बैक, डाकघर की रैकी की तथा घटना को अंजाम देने से पूर्व दो तीन बार बैंक व डाकघर में जाकर बैक व डाकघर की अंदर की स्थित का जायजा लेकर यह तय किया कि किस समय और किस तरीके से वारदात को अंजाम देना है। आरोपी लूट के समय फायरिंग करना तय था जिससे की दहशत का माहौल बन गये और लूट की वारदात को अंजाम देकर शहर की छोटी गलियों को चिन्हित करते जिससे की वह आसानी से भाग सके तथा आरोपी उन गलियों में से भगाते जहां पर सीसीटीवी कैमरे नही लगे हुए हो। लूट से पहले आरोपी टोपी व गमछा खरीदते थे वारदात के बाद दोनों वस्तुाओं को फेंक कर कपड़े चेंज करके घर चले जाते थे।

COMMENTS