डोर-टू-डोर टीका देने वाला देश का पहला शहर बनेगा बीकानेर

 डोर-टू-डोर टीका देने वाला देश का पहला शहर बनेगा बीकानेर

कोविड महामारी के खिलाफ घर-घर जाकर टीका लगाने वाला देश का पहला शहर बीकानेर बनेगा। राजस्थान के बीकानेर में सोमवार से वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत होगी। इसके तहत 45 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन दी जाएगी। इससे पहले शहर में सर्वाजनिक स्थलों पर मोबाइल वैन के जरिए टीका लगाया जा रहा है। जिला प्रशासन की ओर से शुरू की गई इस पहल के तहत तीन दिन के भीतर 65000 हजार लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है।  बीकानेर कलेक्टर ने बताया कि इसका अच्छा रिस्पांस मिल रहा है और जल्द ही शहर कोविड मुक्त हो जाएगा।

वहीं सोमवार से लोगों के घरों तक वैक्सीन पहुंचाने के लिए मोबाइल टीमों का भी गठन किया गया है। वहीं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं। इस हेल्पलाइन नंबर के जरिए वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है। बिना रजिस्ट्रेशन वैक्सीन नहीं दी जाएगी। रजिस्ट्रेशन होने के बाद उस इलाके में वैन पहुंचेगी और लोगों को जांच कर उन्हें टीका लगाया जाएगा।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने निर्देश दिया था

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कुछ हफ्ते पहले कहा था कि वह केंद्र की इस असंवेदनशीलता से निराश और हताश है कि वह मुंबई नागरिक निकाय के साथ वरिष्ठ नागरिकों, खास कर विकलांग, बिस्तर पर लाचार और व्हीलचेयर पर निर्भर लोगों के लिए घर-घर जाकर COVID-19 टीकाकरण शुरू नहीं कर रहा. मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जीएस कुलकर्णी के खंडपीठ ने दोहराया था कि केंद्र को अपनी नीति पर पुनर्विचार करने की जरूरत है जो कहती है कि टीकों की बर्बादी, वैक्सीनेशन की प्रतिकूल प्रतिक्रिया की आशंका और विभिन्न कारणों से डोर-टु-डोर वैक्सीनेशन ड्राइव संभव नहीं है.

 

S.N.Acharya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page