fbpx

जगह-जगह गंदगी के ढेर,निगम कर्मचारी मेले में, शहर की 80 % सफाई ठप

शहर में इन दिनाें मेलों का माहौैल है। रामदेवरा के साथ-साथ अब पूनरासर का मेला भी शुरू हा़े चुका है। अाधा शहर खाली हाेने काे है। आस्था के प्रतीक इन मेलों में अाम लाेगाें के साथ सरकारी कर्मचारी भी जाते हैं। नगर निगम के अाधे से अधिक कर्मचारी भी हर साल की तरह इस साल भी रामदेवरा मेले में गए हैं। कुछ पैदल ताे कुछ गाड़ियों में दर्शन के लिए निकले हुए हैं। कुछ सेवा शिविरों में व्यस्त हैं। ऐसे में शहर की सफाई लगभग ठप पड़ी है।

नगर निगम के 1500 कर्मचारियों में से अाधे से अधिक कर्मचारी छुट्टी पर चले गए हैं। इनमें अाॅटाे टीपर अाैर ट्रैक्टरों व डंपरों पर कार्यरत कार्मिक भी शामिल हैं। कर्मचारियों के छुट्टी पर चले जाने के कारण शहर के अनेक वार्डों में नियमित सफाई व्यवस्था पर प्रतिकूल असर पड़ा है। शहर के सातों जाेन में 20-30 फीसदी कर्मचारी ही हैं,जाे इन दिनों सफाई में लगे हुए हैं।

अाॅटाे टीपर भी अाधे बंद : शहर के 60 वार्डों में कचरा कलेक्शन करने वाले अाॅटाे टीपर भी अाधे बंद हा़े चुके हैं। बुधवार काे 33 अाॅटाे टीपर ही चले, जबकि प्रतिदिन 60 अाॅटाे टीपर शहर में कचरा कलेक्शन करते हैं। ठेके के ड्राइवरों के साथ इन पर निगम का एक-एक कर्मचारी भी कार्यरत है। दाेनाें के ही अवकाश पर चले जाने के कारण करीब अाधे अाॅटाे टीपर निगम के भंडार में खड़े हैं। कर्मचारी नेता सुनील जावा का कहना है कि कर्मचारी पूरे साल काम करते हैं। त्योहारों पर भी हमारा कम बढ़ जाता है। एक रामदेवरा का मेला ही है, जिसमें कर्मचारी जाते हैं। शनिवार तक काफी कर्मचारी लाैट अाएंगे। साेमवार से व्यवस्था दुरुस्त हा़े जाएगी।

मेला खर्ची मिली

निगम कर्मचारियों काे उनके समर्पित अवकाश का भुगतान हा़े चुका है। करीब 20 से 25 हजार रुपए प्रत्येक कर्मचारी के खाते में अाए है। इसके साथ ही वेतन भी मिल चुका है। मेला खर्ची मिलने से कर्मचारियों की खुशी दुगुनी हा़े गई है। सफाई कर्मचारियों ने सेवा शिविर भी लगाए हैं।

COMMENTS

WORDPRESS: 0