कोरोना मरीजों को बेड-ICU के लिए नहीं भटकना पड़ेगा, राजस्थान सरकार ने उठाया ये कदम

कोरोना मरीजों को बेड-ICU के लिए नहीं भटकना पड़ेगा, राजस्थान सरकार ने उठाया ये कदम  कोरोना मरीजों को बेड-ICU के लिए नहीं भटकना पड़ेगा, राजस्थान सरकार ने उठाया ये कदम icu

जयपुर. राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा  ने कहा कि प्रदेश में कोरोना मरीजों की मदद के लिए सभी राजकीय और निजी अस्पतालों में हेल्प डेस्क स्थापित की गई है. पिछले कुछ समय से ये शिकायत लगातार मिल रही थी कि कुछ अस्पताल बेड, आईसीयू उपलब्ध होने के बावजूद मरीजों को इधर से उधर घूमने को मजबूर कर रहे हैं. इसी का समाधान हेल्प डेस्क के जरिए किया जाएगा, ताकि मरीज परेशान न हो.

कोरोना मरीजों को बेड-ICU के लिए नहीं भटकना पड़ेगा, राजस्थान सरकार ने उठाया ये कदम prachina in article 1

राजधानी जयपुर के आरयूएचएस अस्पताल में हेल्प डेस्क स्थापित की गई है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने इस सम्बंध में आदेश जारी कर दिया है. यह हेल्प डेस्क 24 घंटे सातों दिन काम करेगी. यहां एक कर्मचारी सीएमएचओ की ओर से एवं अन्य कर्मचारी अस्पताल की ओर से तैनात किया जाएगा. ये लोग प्रदेश से आने वाले कोरोना मरीजों को भर्ती करने में मदद करेंगे. बेड, आईसीयू, ऑक्सीजन सपोर्टेड और वेंटिलेटर उपलब्ध नहीं होने पर मरीज को अन्य अस्पताल में शिफ्ट कराने में भी मदद करेंगे.

मौसमी बीमारियों से भी निपटने के निर्देश
स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना के साथ ही प्रदेश में वर्षा से प्रभावित स्थानों पर जलजनित एवं मच्छरजनित बीमारियों जैसे डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया की रोकथाम और नियंत्रण के लिए स्वाथ्य विभाग के अधिकारियों को विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिये हैं. शर्मा ने मच्छरों की रोकथाम के लिए एन्टीलार्वल गतिविधियों पर अधिक ध्यान देने एवं मच्छरों के प्रजनन को रोकने के लिए पानी के ठहराव वाले स्थानों पर एमएलओ डलवाने के निर्देश दिये.

उन्होंने पीने के पानी की टंकियों में टेमीफोस डलवाने की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिया है. सभी जिलों में हैचरीज का समुचित रख-रखाव सुनिश्चित करने एवं हैचरीज से गम्बूशिया मछलियां तालाब एवं टैंकों में डलवाने के लिए भी कहा है.

रोगी पाए जाने पर आसपास के 50 घरों में होगा फोकल स्प्रे

चिकित्सा मंत्री ने चिकित्सा अधिकारियों को स्प्रे का सुपरविजन सुनिश्चित करने के निर्देश दिया है. उन्होंने बताया कि मलेरिया, पीएफ रोगी एवं डेंगू रोगी पाये जाने पर पायरेथ्रम का फोकल स्प्रे रोगी एवं आसपास के 50 घरों में किया जायेगा. सभी प्रभावित गांवों में शत-प्रतिशत नियमित मॉनिटरिंग की जायेगी. शर्मा ने बुखार पीड़ित रोगियों की तुरंत जांच और उपचार करने के साथ ही आउटब्रेक की स्थिति में आवश्यक दवाइयां एवं चिकित्सकीय दल रैपिड रेस्पोंस टीम की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए कहा है.

उन्होंने सभी पेयजल स्रोतों की क्लोरोस्कोप से नियमित जांच करने एवं जलदाय विभाग तथा स्थानीय निकायों के समन्वय से संयुक्त टीम का गठन कर पानी के नमूनीकरण का कार्य अधिक से अधिक कर शुद्ध पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिया.

COMMENTS