जयपुरराजस्थान

कोरोना पॉजिटिव कैदी ने वार्ड में फांसी लगाकर दी जान

जयपुर.देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन का महाअभियान चल रहा है वहीं दूसरी तरफ राजस्थान के जयपुर से एक कोरोना पॉजिटिव मरीज के अस्पताल में फांसी लगा लेने की खबर आ रही है. जानकारी के मुताबिक जयपुर के RUHS (Rajasthan University of Health Sciences) हॉस्पिटल में सोमवार सुबह एक कोरोना पॉजिटिव कैदी ने वार्ड में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मृतक का नाम विनय बताया जा रहा है.

बीते शनिवार पुलिस ने मृतक विनय को पुलिस ने जयपुर के RUHS अस्पताल में भर्ती कराया था. जहां उसका इलाज चल रहा था. बताया जा रहा है कि उसकी हालत में काफी सुधार भी था, लेकिन सोमवार अलसुबह विनय ने वार्ड में फांसी लगाकर जान दे दी. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

वार्ड में अकेले भर्ती थे आयकर अफसर
विनय कुमार मंगला छठवीं मंजिल पर एक वार्ड में भर्ती थे। बताया जा रहा है कि इस वार्ड में वे अकेले थे। सुबह करीब 4 बजे तक सिक्यूरिटी गार्ड ने राउंड के दौरान विनय कुमार को वार्ड में अपने बेड पर देखा था। इसके बाद जब वह दोबारा आया तब वे पंखे के कड़े से फंदे पर लटकते हुए नजर आए।

पुलिस ने बताया कि विनय कुमार मंगला कोटा में श्रीनाथ पुरम के रहने वाले थे। मामला न्यायिक हिरासत में मौत से जुड़ा होने पर एसडीएम और अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने परिजनों को सूचना दे दी है। मौके पर कार्रवाई के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी पहुंचाया गया।

 

4 साल पहले सीबीआई ने पकड़ा था
शुरुआती जानकारी में सामने आया कि सीबीआई ने झालावाड़ में विनय कुमार मंगला को पेट्रोल पंप मालिक से एक लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था। परिवादी के पेट्रोल पंप की 2014-15 की आयकर डिमांड नहीं निकालने के एवज में मंगला ने सवा लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी।

परिवादी ने बातचीत करके आयकर अधिकारी मंगला को एक लाख रुपए देना तय किया। रिश्वत की रकम काम करने के बाद देना तय किया तो विनय कुमार ने परिवादी से बिना डेट का एक लाख रुपए का चेक ले लिया था। मामला सीबीआई तक पहुंच गया। सीबीआई ने तब उनके घर की सर्च की तो डेढ़ किलो सोना, अचल संपत्ति के दस्तावेज, 4 बैंक लॉकर, 6 अलग-अलग बैंकों में खातों का पता चला था।

What's your reaction?