कोरोना को हल्के में लिया तो हुई भारी परेशानी ,अब पूर्णतया स्वस्थ

कोरोना को हल्के में लिया तो हुई भारी परेशानी ,अब पूर्णतया स्वस्थ  कोरोना को हल्के में लिया तो हुई भारी परेशानी ,अब पूर्णतया स्वस्थ hdsdjh

कोरोना को हल्के में लिया तो हुई भारी परेशानी ,अब पूर्णतया स्वस्थ mr bika fb post

बीकानेर। कोरोना को हल्के में लिया और घर पर ही इलाज करवाया, तो हालत बिगड़ती गई। गंभीर स्थिति में कोविड हाॅस्पिटल पहुंचे। वहां के डाॅक्टरों ने बचा लिया, नहीं तो ना जाने क्या होता?
यह कहना है सेंट्रल काॅपरेटिव बैंक के सेवानिवृत्त मुख्य प्रबंधक देवी सिंह शेखावत का। कैलाश पुरी क्षेत्र में रहने वाले शेखावत ने बताया कि 24 अक्टूबर को उन्हें बुखार आया, लेकिन उन्होंने इसे गंभीरता से नहीं लिया। तबीयत बिगड़ने लगी तो कोरोना जांच करवाई और रिपोर्ट में पाॅजिटिव पाया गया। इसके बाद भी घर पर इलाज करवाता रहा, लेकिन धीरे-धीरे स्थिति गंभीर होने लगी। लोगों की बातें सुनने से मन में पीबीएम अस्पताल की व्यवस्थाओं के प्रति संशय था और डर भी। इस दौरान घर के पास ही रहने वाले पीबीएम अस्पताल के कर्मचारी ने उन्हें वहां की बेहतरीन सुविधाओं का विश्वास दिलाया और अंततः उसकी सलाह पर 4 नवंबर को कोविड अस्पताल में भर्ती हुए।
शेखावत ने बताया कि पीबीएम अस्पताल की व्यवस्थाएं सुनी-सुनाई बातों की तुलना में कई गुना अच्छी थी। वहां के डाॅक्टरों ने उनका बेहतरीन उपचार किया। मरीजों के प्रति उनका व्यवहार अच्छा था। रात को 12 बजे भी फोन करने पर रेसपोंस भी मिला और डाॅक्टर आए भी। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों के समर्पण भाव के कारण बच गए, अन्यथा क्या होता पता नहीं? राहत की सांस लेते हुए उन्होंने कहा, आज  वह स्वस्थ हैं, इसका पूरा श्रेय पीबीएम अस्पताल को है।

कोरोना को हल्के में लिया तो हुई भारी परेशानी ,अब पूर्णतया स्वस्थ prachina in article 1

कोरोना को हल्के में लिया तो हुई भारी परेशानी ,अब पूर्णतया स्वस्थ Photo pbm 05

COMMENTS