बीकानेर में 1 फोटो को लेकर छिड़ी बहस 

बीकानेर में 1 फोटो को लेकर छिड़ी बहस   बीकानेर में 1 फोटो को लेकर छिड़ी बहस  laxminath photo viral

बीकानेर हलचल। छोटीकाशी नाम से विख्यात धर्मनगरी बीकानेर में इस बार लाॅकडाउन के दौरान 1 फोटो के वायरल होने पर बहस छिड़ी हुई है। बीकानेर के सभी धार्मिक स्थल लाॅकडाउन के दौरान बन्द पड़े, कई मन्दिरों के बाहर से ही लोग दर्शन कर के आशीर्वाद लेने पहुंचते है। नगर सेठ नाम से विख्यात लक्ष्मीनाथ जी का भव्य मन्दिर बीकानेरवासियों का आस्था का केन्द्र है।

बीकानेर में 1 फोटो को लेकर छिड़ी बहस  prachina in article 1
राजस्थान के बीकानेर का श्री लक्ष्मीनाथ मंदिर यहां के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। यह मंदिर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को समर्पित हैं। लक्ष्मीनाथ मंदिर बीकानेर का प्रमुख पवित्र स्थल हैं। मंदिर में स्थापित मूर्तियों को चांदी की नाजुक और जटिल कलाकृतियों के लिए जाना जाता हैं। ऐतिहासिक मन्दिर लक्ष्मीनाथ मन्दिर का एक फोटो और वीडियों सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। पहली बार नगर सेठ का फोटो जनता के बीच आया है तो वायरल होना स्वाभाविक भी है। पुरानी मान्यता के अनुसार इस मन्दिर का फोटो लेना वर्जित है फोटो लेने वाले पर कोई ना कोई विपत्ति आ जाती है। मगर अभी वायरल हुए फोटो पर मिलीजुली प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है। कोई इसका विरोध कर रहा है तो कोई इसे भगवान का आशीर्वाद मानकर शेयर कर रहे है। वहीं कुछ लोग तो फोटो का प्रिंट बनवाने स्टूडियों पर पहुंचने लगे है। कोई इसको आगे शेयर करने से रोक रहे है तो कोई ये बोल रहे है कि क्यू कब किसने फोटो लेने से मना किया गया। पूरे सोशल मीडिया पर एक बहस छिड़ी है कि ये सही है या गलत। कुछ लोग ये भी बोल रहे है कि ये सही है या गलत हमें नहीं पता परन्तु इसी बहाने लाॅकडाउन में लक्ष्मीनाथ जी ने दर्शन दिए जो सभी के लिए मंगलकारी होगा।
यह फोटो कब किसने लिया इसकी जानकारी किसी को नहीं ।
बीकानेर में 1 फोटो को लेकर छिड़ी बहस  20200513 185107 400x288
मन्दिर का इतिहास
लक्ष्मीनाथ मंदिर शहर के सबसे पुराने ऐतिहासिक स्मारकों में से एक है। राव बीकाजी ने बीकानेर की नींव यहाँ इसी मंदिर में वर्ष 1488 में रखी। इसके कारण, यह अन्य सभी पर्यटकों के आकर्षण के बीच एक अद्वितीय स्थान रखती है। यह मंदिर राव लूणकरण के शासनकाल के दौरान बनाया गया था। यह हिंदू देवता विष्णु और उनकी पत्नी लक्ष्मी को समर्पित है जो की अपनी असाधारण स्थापत्य शैली के कारण जाना जाता है। माना जाता है महाराजा राव लूणकरन भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी के आराध्य थे इसीलिए उन्होंने भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को समर्पित मंदिर का निर्माण करवाया था।
लक्ष्मीनाथ मंदिर के सबसे लोकप्रिय त्यौहार निर्जला एकादशी, जन्माष्टमी, गीता जयंती, दिवाली और रामनवमी हैं।

मंदिर की वास्तुकला

14 वीं शताब्दी में निर्मित श्री लक्ष्मीनाथ मंदिर का निर्माण लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर का उपयोग करके बनाया गया था।  मंदिर में कई खूबसूरत पेंटिंग, मूर्तियां और चांदी की उत्तम कारीगरी भी देखी जा सकती है।

COMMENTS