राजस्थान में Weekend Curfew में ढील देने पर हो सकता है फैसला

 राजस्थान में Weekend Curfew में ढील देने पर हो सकता है फैसला

जयपुर: वीकेंड कर्फ्यू के चलते राजस्थान में दो दिन से बंद बाजारों में सोमवार से फिर रौनक दिखने लगेगी. प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर पर कुछ हद तक काबू पा लिया गया है. वहीं, सरकार अब कोरोना संक्रमण के कंट्रोल आने की स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील देने पर विचार किया जा रहा है, क्योंकि राज्य में एक तरफ एक्टिव केस 8400 पर आ गए है. पूरे राज्य में संक्रमण की दर भी 3 फीसदी से नीचे बनी हुई है, जो स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Health) और WHO के मुताबिक नियंत्रण की स्थिति मानी जाती है.

ओपन वीसी में लॉकडाउन में ढील देने का किया गया था जिक्र:
राज्य सरकार ने कोरोना गाइडलाइन की सख्ती को देखते हुए पहले वीकेंड कर्फ्यू को सोमवार तक तय किया था. काफी दिनों के बाद यह पहला सप्ताह होगा जब सोमवार को बाजार खुलने लगेंगे. सभी तरह की दुकानें अब सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक खोली जा सकेगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को जब ओपन VC की थी, तब लॉकडाउन में ढील देने के बारे में भी जिक्र किया था. कुछ विशेषज्ञों (Experts) ने 2 सप्ताह का गैप लेते हुए लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील देने की बात कही है. हालांकि, ढील के साथ-साथ जनता से कोविड गाइडलाइन की सख्ती से पालना और ज्यादा से ज्यादा लोगों का वैक्सीनेशन करने की भी बात विशेषज्ञों ने कही है.

हट सकता है वीकेंड लॉकडाउन:
सूत्रों के मुताबिक अगले सप्ताह वीकेंड लॉकडाउन हटाने पर विचार किया जा सकता है. राज्य में कोरोना के पिछले दो दिनों से केस 500 से भी कम आ रहे है. वहीं, एक्टिव केस भी 8400 पर आ गए है, ऐसे में संभावना है कि अगले सप्ताह सरकार वीकेंड लॉकडाउन को हटाने के संबंध में संशोधित गाइडलाइन (Revised Guideline) जारी कर सकती है. इसके अलावा सार्वजनिक परिवहन की सेवा भी जो अभी केवल राज्य के अंदर ही जारी है, उसे दूसरे राज्यों में भी शुरू किया जा सकता है.

राजस्थान में रविवार को कोरोना के 368 नए केस आए थे, जबकि कोरोना से ठीक हुए मरीजों की संख्या 975 थी. राज्य में इस बीमारी से मरने वाली की संख्या भी अब कम होने लगी है और यह 20 से भी नीचे पहुंच गई है. पूरे राज्य में कल कोई भी ऐसा जिला नहीं था, जिसमें 55 से ज्यादा केस आए हो.

S.N.Acharya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page