जिला निर्वाचन अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक प्रो एक्टिवली करे कार्यःमेहरा

जिला निर्वाचन अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक प्रो एक्टिवली करे कार्यःमेहरा  जिला निर्वाचन अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक प्रो एक्टिवली करे कार्यःमेहरा IMG 20200916 174059 scaled

बीकानेर। संभागीय आयुक्त बी. एल. मेहरा ने कहा कि पंचायत आम चुनाव के दौरान प्रत्येक मतदान केन्द्र पर पर्याप्त पुलिस जाब्ता तैनात किया जाए। कानून व्यवस्था की दृष्टि से प्रत्येक स्थिति पर नजर रखी जाए। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी आपसी समन्वय के साथ कार्य करते हुए चुनावी प्रक्रिया शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न करवाए।
मेहरा बुधवार को राजीव गांधी सेवा केन्द्र में  वीडियों काॅन्फ्रेसिंग के माध्यम से संभाग के जिला निर्वाचन अधिकारी व पुलिस अधीक्षक से कानून व्यवस्था और ग्राम पंचायत के सरपंच व पंच के चुनाव को लेकर  बातचीत कर फीडबैक ले रहे थे। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनावों की घोषणा के साथ आदर्श आचार संहिता प्रभावी हो गई है। ऐसे में यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी कीमत पर इसका उल्लंघन न हो। यदि कही ऐसा पाया जाता है तो नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जाए। उन्होंने कहा कि संभाग के सभी जिला कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक प्रो एक्टिव होकर कार्य करें और अपने अपने जिले के सभी उपखंड अधिकारियों तथा पुलिस के अधिकारियों से यह भी फीडबैक लेे की सभी जगह कानून व्यवस्था संधारित है। अगर कहीं पूर्व के चुनाव में किसी तरह की गड़बड़ी हुई है तो ऐसे स्थानों पर पहले से ही सुरक्षा के सभी बंदोबस्त कर लिए जाए।
उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार प्रत्येक मतदान केन्द्र पर पर्याप्त जाब्ता तैनात किया जाए। पुलिस कार्मिकों के मतदान केन्द्रों की स्थिति तथा यहां तक पहुंचने के रास्तों की जानकारी हो, यह सुनिश्चित किया जाए। प्रत्येक उपखण्ड क्षेत्र में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा मतदान केन्द्रों का संयुक्त अवलोकन किया जाए तथा संवेदनशील एवं अति संवेदनशील मतदान केन्द्रों पर विशेष नजर रखी जाए। निर्वाचन प्रक्रिया से संबंधित जोनल एवं एरिया मजिस्ट्रेटों आदि की नियुक्ति शीघ्र कर दी जाए तथा उन्हें उनके कत्र्तव्यों एवं जिम्मेदारियों का प्रशिक्षण दिया जाए। चुनाव प्रक्रिया में नियुक्त सभी कार्मिकों के नाम, मोबाइल नम्बर तथा उनके नियुक्ति क्षेत्र का डाटा तैयार किया जाए। इसके अलावा सभी रिटर्निंग एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारियों विभिन्न थानों एवं नियंत्रण कक्ष के नंबर भी प्रत्येक कार्मिकों को उपलब्ध करवाने के निर्देश उन्होंने दिए।
संभागीय आयुक्त ने कहा कि मतदान करवाने के लिए जो मतदान अधिकारी ग्राम पंचायत पर जाएंगे, उन्हें जरूरत पड़ने पर चिकित्सा सुविधा मिल जाए, इसके लिए मतदान दल के आस पास में जो भी स्वास्थ्य केन्द्र या उपस्वास्थ्य केन्द्र है, उनके चिकित्सकों को पाबन्द किया जाए कि वे अपने कार्यस्थल पर रहें, और यथासंभव मतदान केन्द्र तक जाकर कार्मिकों का स्वास्थ्य परीक्षण करें और दवाईयां साथ ले जाएं। उन्होंने कहा कि सभी ब्लाॅक सीएमएचओ को भी पाबन्द किया जाए कि वे मतदान एवं मतगणना के दौरान क्षेत्र में चल-चिकित्सा इकाई की भी व्यवस्था इस तरह से रखें कि जरूरत पड़ने पर तत्काल एम्बूलेन्स की सुविधा मिल जाए। उन्होंने कहा कि जिन पंचायत समिति क्षेत्रों में चुनाव हैं, वहां के उपखंड मजिस्ट्रेट सभी मतदान केन्द्रों का भौतिक निरीक्षण करे और यह भी देखें कि मतदान केन्द्र तक सुगमता से वाहन पंहुच सकते हैं तथा मतदान केन्द्रों में प्रवेश-निकासी और रोशनी सहित सभी आधारभूत सुविधाओं की समुचित व्यवस्था है। उन्होंने सभी जिला निर्वाचन अधिकारी से कहा कि यह भी सुनिश्चित करें कि विशेष जनों को मतदान केंद्रों तक पहुंचाने और वापस उन्हें उनके निवास तक छोड़ने की व्यवस्था बेहतर रहे।
मेहरा ने कहा कि सभी जिला निर्वाचन अधिकारी और पुलिस अधीक्षक अपने-अपने क्षेत्र के संवेदनशीन और अतिसंवेदनशील बूथों की सूची बनाएं और राजस्थान प्रशासनिक सेवा और राजस्थान पुलिस सेवा के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उचित जाब्ते सहित ऐसे मतदान केन्द्रों का भ्रमण करवाएं और अगर जरूरत महसूस हो, तो इन क्षेत्रों में फ्लैग मार्च करवाया जाए। उन्होंने चारों जिलों के पुलिस अधीक्षकों से कहा कि पंचायत चुनाव के दौरान इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि संबंधित पंचायत समिति क्षेत्र में वहां के निवासी पुलिस अधिकारी की ड्यूटी न लगाई जाए। उन्होंने कहा कि संभाग के ऐसे जिले जिनकी सीमा अन्य राज्यों की सीमा से लगती हो, उन जिलों के पुलिस अधिकारियों से भी संपर्क स्थापित कर यह सुनिश्चित करें कि चुनाव के दौरान उन राज्यों से शराब व नशीले पदार्थों का अवैध परिवहन न हो तथा साथ ही पास के राज्यों से कोई असामाजिक या समाज कंटक व्यक्ति भी प्रवेश न कर सके इसके भी पक्के बंदोबस्त किए जाए।
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में आई.जी. पुलिस प्रफुल्ल कुमार ने कहा कि सभी जिला पुलिस अधीक्षक अपने अपने जिलों में पुलिस नाकों की स्थापना कर दे ताकि अन्य राज्य से कोई आवांछित व्यक्ति प्रवेश नहीं कर सके और यह देखें कि उनके जिले में जो हिस्ट्रीशीटर हैं उन सब को पाबंद करने का कार्य करने के साथ-साथ जिनके वारंट जारी हो चुके हैं उन सब की गिरफ्तारी का भी कार्य करें। उन्होंने कहा कि चारों जिलों में पुलिस जाब्ता और होमगार्ड की आवश्यक संख्या में तैनाती की है, फिर भी अगर किसी पुलिस अधीक्षक को लगे पुलिस दल की और जरूरत है तो समय रहते बता दें ताकि रिजर्व पुलिस से आवश्यक संख्या में पुलिस दल पहुंचा जा सके। उन्होंने कहा कि पुलिस अधीक्षक यह भी सुनिश्चित करें कि सभी उपखंड मुख्यालय पर जो पुलिस थाने हैं वहां भी आवश्यक संख्या में पुलिस बल तैनात रहे ताकि किसी तरह की घटना दुर्घटना होने पर तत्काल पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंच सके।
जिला निर्वाचन अधिकारी नमित मेहता ने कहा कि प्रत्येक ग्राम पंचायतों के लिए जोनल मजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए है। सभी कार्मिकों के प्रशिक्षण का कलैण्डर जारी कर दिया गया है। इसके अनुसार प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आचार संहिता के मद्देनजर सम्पूर्ण क्षेत्र में विभिन्न प्रतिबंध लागू कर दिए गए है। इसके अनुसार प्रभावी कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव के मद्देनजर जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष स्थापित कर दिया गया है।
पुलिस अधीक्षक प्रहलाद कृष्णीया ने कहा कि पंचायत चुनावों के लिए प्रत्येक मतदान केन्द्रों पर आयोग के निर्देशानुसार पुलिस जाब्ता तैनात करने की सभी तैयारियां कर ली गई है साथ ही अतिरिक्त जाब्ते की आवश्यकता होगी तो वह भी उपलब्ध करवाई जाएगी। बैठक में अतिरिक्त कलेक्टर(प्रशासन) ए.एच. गौरी अतिरिक्त संभागीय आयुक्त इंदीवर दुबे मौजूद रहें।

जिला निर्वाचन अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक प्रो एक्टिवली करे कार्यःमेहरा prachina in article 1

COMMENTS