राजस्थानबीकानेर

जिला निर्वाचन अधिकारी ने पुलिस अधीक्षक के साथ ली समन्वय बैठक

बीकानेर। जिला निर्वाचन अधिकारी भगवती प्रसाद कलाल ने पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम के साथ रिटर्निंग अधिकारियों व पुलिस उपाधीक्षकों की संयुक्त बैठक कर समन्वय से काम करते हुए शांतिपूर्वक और निष्पक्ष मतदान संपादित करवाने के निर्देश दिए।
जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय सभागार में बुधवार को आयोजित  बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि भय मुक्त मतदान संपन्न हो ,इसके लिए पुलिस और प्रशासन का समन्वय अति आवश्यक है। रिटर्निंग अधिकारी पुलिस अधिकारियों के साथ ज्वाइंट विजिट करने पर विशेष ध्यान दें।  शराब, ड्रग्स और नकद सहित समस्त प्रकार की अवैध परिवहन गतिविधियों पर प्रभावी अंकुश लगना चाहिए।
जिला निर्वाचन अधिकारी भगवती प्रसाद ने कहा कि शांतिपूर्ण मतदान के लिए संयुक्त जिम्मेदारी को समझें और यदि किसी स्थान पर सूचनाओं को साझा करने में गैप हुआ है तो संवाद बढ़ने पर ध्यान दें। तथ्य साझा किए जाएं और संवाद नियमित रूप से बनाए रखें।
भगवती प्रसाद कलाल ने इन अधिकारियों द्वारा अब तक विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों में किए गए जॉइंट दौरों की जानकारी लेते हुए कहा कि वल्नरेबल हेमलेट वाले क्षेत्रों में गश्ती पर विशेष ध्यान दिया जाए। मतदाताओं के साथ बातचीत हो। वल्नरेबल पॉकेट तथा फैमिली की सूचना दोनों अधिकारी आपस में साझा करें और एफ एस टी, एस एस टी और सेक्टर अधिकारियों को इन क्षेत्रों के बारे में इनपुट शेयर किए जाएं।
जिला निर्वाचन ने कहा कि हर संदिग्ध वाहन की जांच हो। खुद रिटर्निंग अधिकारी भी समय-समय पर वाचन जांच करने के लिए नाकों का दौरा करें। जिला निर्वाचन कार्यालय को प्राप्त होने वाली किसी भी रिपोर्ट में मिसमैच नहीं होना चाहिए।
बैठक में पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम ने कहा कि अपने क्षेत्र के बड़े कस्बों में फ्लैग मार्च के दौरान रिटर्निंग अधिकारी पुलिस अधिकारियों के साथ रहे । गौतम ने कहा कि अधिकारी सही को सही और गलत को गलत देखते हुए निष्पक्षता के साथ चुनाव संपादित करवाएं। उन्होंने कहा कि दोनों अधिकारी संयुक्त विजिट के दौरान एक मतदान केंद्र की व्यवस्थाओं को समग्र रूप से देख पाएंगे और इसी आधार पर मतदान के दिन समस्त व्यवस्थाएं दुरुस्त हो सकेंगी।
पुलिस अधीक्षक ने कहा कि मतदान बूत के 200 मीटर के दायरे में आने वाले घर और दुकानों के यहां पहले ही नोटिस दे दिए जाएं। साथ ही ऐसे घरों में सदस्यों की सूचना ले ली जाए, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके  कि मतदान के दिन इन घरों में सदस्यों की अतिरिक्त कोई बाहरी व्यक्ति उपस्थित ना रहे।
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि सी विजिल ऐप पर एफ एस टी के साथ थानेदार और तहसीलदार तथा नाइब  तहसीलदार को भी जोड़ा गया है ताकि आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत पर त्वरित कार्रवाई की जा सके। उन्होंने रिटर्निंग अधिकारियों से नाकों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने की कार्रवाई भी सुनिश्चित करवाने को कहा। बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी प्रतिभा देवठिया ,अतिरिक्त जिला कलेक्टर शहर जगदीश प्रसाद गौड़ सहित समस्त रिटर्निंग अधिकारी तहसीलदार और अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

What's your reaction?