इलाज करते खुद संक्रमित हुए डॉक्टर , ठीक होकर 15 सर्जरी और की

इलाज करते खुद संक्रमित हुए डॉक्टर , ठीक होकर 15 सर्जरी और की  इलाज करते खुद संक्रमित हुए डॉक्टर , ठीक होकर 15 सर्जरी और की bikaner headline 3 1 2 1 3

जयपुर. मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए हर दिन डॉक्टर मौजूद रहते हैं। आज इनका विशेष दिन है तो इनके मरीजों के साथ खास रिश्ते, संवेदनशीलता और समर्पण की बात तो होनी ही चाहिए। जयपुर के हर उस डॉक्टर को नमन, जिन्होंने अपनी शपथ निभाई। आज पढ़िए कोरोनाकाल में डॉक्टर्स कैसे अपनी हिप्पोक्रेटिक ओथ के हर वाक्य पर खरे उतरे।

32 डॉक्टरों को कोरोना हुआ, ठीक हुए फिर काम पर लौटे

एसएमएस के सर्जन महेश नगर निवासी डॉ. सोमेंद्र बंसल सर्जरी के दौरान 16 अप्रैल को कोरोना संक्रमित हो गए। 14 दिन बाद रिकवर होकर मई में ड्यूटी पर लौटे डॉ. बंसल 15 सर्जरी और कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि एसएमएस में घाटगेट से आए मरीज को देखा था। आंतों में परेशानी थी।

पीपीई किट, मास्क, ग्लव्स सभी सावधानी बरती। मरीज की आंत फट चुकी थी और जल्द ऑपरेशन की जरूरत थी। हमने आंतों का ऑपरेशन कर उसकी जान तो बचा ली, लेकिन जब मरीज के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी मिली तो सभी ने सैंपल दिए।

मैं और अन्य 2 साथी पॉजिटिव निकले। मेरे सामने परिवार के सैंपल लिए गए तो तनाव चरम पर था। हमने हिम्मत नहीं हारी और अब फिर से मरीजों को देख रहे हैं। अब तक 32 डॉक्टरों समेत 180 चिकित्सा कर्मी पॉजिटिव आ चुके हैं। 165 डिस्चार्ज हो चुके हैं।

डॉक्टरों की पहल पर शव ले जाने को माने एम्बुलेंस चालक

कोरोना के भय से जब अपनों तक ने शव को कंधा देने से इनकार कर दिया तो डॉक्टर भगवान बनकर आए और अपनों को खो चुके लोगों की मदद की। 25 अप्रैल को एसएमएस अस्पताल में अलवर-बहरोड़ के एक व्यक्ति की डेडबॉडी को बाहर खड़ी एंबुलेंस ले जाने को तैयार नहीं हुई। यह महामारी का खौफ ही था कि जिन शवों को ले जाने के लिए निजी एंबुलेंस वाले दौड़े चले आते थे, वो कन्नी काटते रहे। रोते-बिलखते परिजन मायूस नजर आए।

थक-हार वो अस्पताल के डॉ. सुमंत दत्ता के पास पहुंचे तो उन्होंने पहले खुद के प्रशासन, फिर पुलिस और कलेक्टर के यहां हालात सुधारने की पहल की। 27 अप्रैल को भी तीन डेड बॉडी को ले जाने के लिए एंबुलेंस तैयार नहीं हुई तो डॉक्टरों की पहल पर एडिशनल कमिश्नर पुलिस ने मौके पर एसएचओ को भेजकर हालात ठीक कराए।

COMMENTS