खुलगये धर्म स्थलों के द्वार, सरकारी गाइड लाइन की करनी होगी पालना

खुलगये धर्म स्थलों के द्वार, सरकारी गाइड लाइन की करनी होगी पालना  खुलगये धर्म स्थलों के द्वार, सरकारी गाइड लाइन की करनी होगी पालना dharmsthl

जयपुर. कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच आज से प्रदेश के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के सभी छोटे-बड़े सभी धार्मिक स्थल (Religious places) सशर्त खोल दिये गये हैं. पोकरण स्थित लोकदेवता रामदेवजी सहित अनेक मंदिरों के पट आज खोले गए है ।

खुलगये धर्म स्थलों के द्वार, सरकारी गाइड लाइन की करनी होगी पालना prachina in article 1

सभी बड़े मन्दिरों को कोरोना गाइडलाइन की पालना के साथ 7 सितंबर से सशर्त खोलने की अनुमति प्रदान की गई है. लॉक डाउन में राजस्थान के सभी धार्मिक स्थल बंद थे. हालांकि गहलोत सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में श्रद्धालुओं की सीमित संख्या वाले धार्मिक स्थल 1 जुलाई से फिर से खोलने की अनुमति प्रदान कर दी थी. लेकिन शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े धार्मिक स्थल कोविड-19 महामारी के कारण अब तक बंद थे.

खुलगये धर्म स्थलों के द्वार, सरकारी गाइड लाइन की करनी होगी पालना 118814850 3541034909286235 550274977408680362 o 400x225

यह है गृह विभाग की ओर से जारी गाइडलाइन
– धार्मिक स्थल पर फूल, माला, प्रसाद अन्य पूजा सामग्री ले जाने पर रोक रहेगी.
– मंदिरों की घंटी बजाने पर प्रतिबंध रहेगा.
– अब केवल एक कतार जाने की होगी और एक कतार आने की होगी.
– एक समय में मंदिर परिधि में केवल 50 श्रद्धालुओं को ही दी जाएगी इजाजत.
– मंदिर में 50 फीट दूर से सकेंगे भगवान के दर्शन.
– एक साथ अधिकतम 15 से 20 श्रद्धालु ही प्रभु के दर्शन कर पाएंगे.
– श्रद्धालु प्रभु को कुछ भी नहीं चढ़ा पाएंगे.
– सोशल डिस्टेंसिंग की पूरी तरह पालना करनी होगी.
– मास्क पहनना अनिवार्य होगा.
– सार्वजनिक स्थानों पर थूकना कानून का उल्लंघन माना जाएगा.
– राज्य सरकार की गाइड लाइन का उल्लंघन करने पर भारी दंड और जुर्माने का प्रावधान किया गया है.

COMMENTS