डॉ कल्ला ने सुजानदेसर गोचर में किया पौधारोपण

डॉ कल्ला ने सुजानदेसर गोचर में किया पौधारोपण  डॉ कल्ला ने सुजानदेसर गोचर में किया पौधारोपण IMG 20210321 WA0003

डॉ कल्ला ने सुजानदेसर गोचर में किया पौधारोपण mr bika fb post

बीकानेर। ऊर्जा तथा जनस्वास्थ्य मन्त्री डॉ. बी डी कल्ला ने कहा कि पौधे लगाना और गौपालन करना हमारी परम्परा का अभिन्न अंग है। पेड़ हमें प्राणवायु देते हैं। वहीं गाय को विश्व माता कहा जाता है।
डॉ. कल्ला रविवार को सुजानदेसर गोचर विकास एवं पर्यावरण विकास समिति की ओर से आयोजित पौधारोपण एवं सम्मान समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमें अधिक से अधिक पौधे लगाने चाहिए तथा इनकी देखभाल करनी चाहिए। राज्य सरकार भी इसे लेकर गम्भीर है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने बीकानेर को अनेक सौगातें दी हैं। चांदमल बाग की वर्षों पुरानी समस्या के समाधान के लिए 10 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं। सड़कों के लिए 50 करोड़ रुपये दिए हैं। डेयरी साइंस, नेचरोपैथी तथा आयुर्वेद कॉलेज स्वीकृत किए गए हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वजों ने कुँए, बावड़ी बनवाए तथा जल संरक्षण को सर्वोच्च प्राथमिकता दी। उन्होंने कहा कि परम्परागत जल स्त्रोतों का संरक्षण सरकार की प्राथमिकता में है। बारह महादेव मंदिर परिसर के ऊपर से गुजर रही विद्युत लाइन को शिफ्ट करने की स्थानीय लोगों की मांग पर उन्होंने विद्युत कम्पनी के अधिकारियों को मौके पर बुलाया और त्वरित कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मंदिर परिसर के विकास में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। इससे पहले उन्होंने बारह महादेव मंदिर में पूजा अर्चना की तथा पौधारोपण किया। इस अवसर पर समिति द्वारा ऊर्जा मंत्री का नागरिक अभिननन्दन कियाया गया। कार्यक्रम का संचालन सीता राम कच्छावा ने किया। उन्होंने गौचर में गौ अभ्यारण्य के रूप में विकसित करवाने की मांग की।
ये रहे उपस्थित
इस अवसर पर सेवाराम , लरखुराम, श्याम लाल गहलोत, किसन सांखला, इन्द्रचंद गहलोत, नंदूजी, बाबूलाल,सुरेश सोलंकी, बजरंग गहलोत, राजेश गहलोत, राजेश कच्छावा, जेठमल कच्छावा,  बाबूलाल गहलोत, गोविन्द गहलोत, संतोष कच्छावा महेेन्द्र सोनी, मिलन गहलोत, भंवर गहलोत, मनोज सेवग, हरीप्रकाश  सोनी, नीरज कच्छावा,  विजय गहलोत, रामजी, नारायण प्रसाद कच्छावा, शिव सोनी,ओम प्रकाश कच्छावा आदि उपस्थित रहे।

डॉ कल्ला ने सुजानदेसर गोचर में किया पौधारोपण prachina in article 1

 

COMMENTS