कोरोना से जंग में इन 8 राज्यों पर फोकस, जानिए कैसे बढ़ रहा संकट

कोरोना से जंग में इन 8 राज्यों पर फोकस, जानिए कैसे बढ़ रहा संकट  कोरोना से जंग में इन 8 राज्यों पर फोकस, जानिए कैसे बढ़ रहा संकट hujsds

कोरोना से जंग में इन 8 राज्यों पर फोकस, जानिए कैसे बढ़ रहा संकट mr bika fb post

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना संक्रमण के मुद्दे पर आज 8 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे. दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम की ये वर्चुअल मीटिंग सुबह 10.30 बजे से शुरू होगी. बैठक का मकसद इन राज्यों में दोबारा तेजी से बढ़ रहे कोरोना मामलों पर रोकथाम के उपायों पर चर्चा करना है. केंद्र सरकार शहरी इलाकों में कोरोना संक्रमण में बढ़ोतरी और इसके बाद लागू हुई पाबंदियों को लेकर फिक्रमंद है.

कोरोना से जंग में इन 8 राज्यों पर फोकस, जानिए कैसे बढ़ रहा संकट prachina in article 1

केंद्र पहले ही साफ कर चुका है कि राज्यों को अलग से वैक्सीन का इंतजाम करने की जरूरत नहीं होगी बल्कि केंद्र सरकार सभी राज्यों को वैक्सीन मुहैया कराएगी. सरकार की योजना के मुताबिक सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों और बुजुर्गों को वैक्सीन दी जाएगी.

राज्य कुल कोरोना मामले ठीक हो चुके मरीज कुल मौतें
छत्तीसगढ़ 223436 199311 2732
दिल्ली 529863 481260 8391
गुजरात 198899 181187 3876
हरियाणा 219963 197335 2216
केरल 566452 500089 2071
महाराष्ट्र 1784361 1655793 46563
राजस्थान 247168 220871 2181
पश्चिम बंगाल 459918 426816 8072

देश भर में तीसरी लहर के साथ ही कोरोना का कहर दिखने लगा है लेकिन इसके साथ ही राहत की बात ये है कि अगले साल मार्च तक भारत में बनी वैक्सीन के आने का ऐलान किया गया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खुशखबरी दी है. सब कुछ ठीक रहा तो इस साल के अंत तक भारत में कोरोना का टीका लगना शुरू हो जाएगा. अब बस इमर्जेंसी अप्रूवल मिलने का इंतजार है.

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया इमर्जेंसी अप्रूवल के लिए प्रयासों में भी जुट गया है. एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन महामारी को रोकने में 70 फीसदी तक प्रभावी है.

इंडियन ड्रग रेग्युलेटर डीसीजीआई की ओर से कोरोना वायरस की वैक्सीन के लिए एक मसौदा तैयार किया गया, जिसमें स्पष्ट कहा गया है कि जो भी वैक्सीन 50 फीसदी से ज्यादा कारगर होगी, उसे मंजूरी दी जा सकती है. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का दावा है कि कंपनी ने अबतक लगभग 4 करोड़ डोज तैयार कर चुकी है.

 

 

COMMENTS