fbpx

दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के सामने सिखों का प्रदर्शन,

दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के सामने सिखों का प्रदर्शन,  दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के सामने सिखों का प्रदर्शन, delhi

नई दिल्ली. पाकिस्तान में ननकाना साहिब गुरुद्वारा पर शुक्रवार को भीड़ के हमले के खिलाफ शनिवार को सिख समुदाय ने पाक उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन किया। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) और अकाली दल ने हमले में शामिल लोगों की गिरफ्तारी की मांग की है। वहीं, घटना के विरोध में सिख समुदाय ने चाणक्यपुरी इलाके में सड़क पर लंगर खिलाया। इसबीच, शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने मामले की जांच के लिए 4 सदस्यीय दल पाकिस्तान भेजने की बात कही। उधर, खालिस्तान समर्थक गोपाल सिंह चावला की अगुवाई में मुस्लिम धर्मगुरु ननकाना साहिब में सिख समुदाय से मिले।

अकाली दल के प्रवक्ता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा, ‘‘हम गुरु घर और सिख समुदाय पर हुए इस हमले को बर्दाश्त नहीं करेंगे। इस घटना से साफ हो गया है कि पाकिस्तान मुस्लिम राष्ट्र है, जिसे अल्पसंख्यकों की जान और इज्जत की कोई परवाह नहीं है। ननकाना साहिब पर हुए हमले के वीडियो में मोहम्मद हसन खुलेआम कह रहा है कि गुरुद्वारा साहिब की जगह मस्जिद बनाएगा और यहां से सभी सिखों को भगा दिया जाएगा। इसे किसी कीमत पर नहीं सहा जाएगा। इतनी बड़ी घटना के बाद भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान चुप्पी साधे हैं। इससे अल्पसंख्यकों के हितों को लेकर उनकी संजीदगी पता चलती है।”

मंत्री ने कहा- सीएए विरोधियों की आंखें खुलनी चाहिए
केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि ननकाना साहिब की घटना के बाद नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध करने वालों की आंखें खुल जाना चाहिए। इस घटना से साफ होता है कि पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों को किस तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0