कोरोना पर स्वास्थ्य मंत्रालय का चौंकाने वाला बयान , कही ये बड़ी बात

कोरोना पर स्वास्थ्य मंत्रालय का चौंकाने वाला बयान , कही ये बड़ी बात  कोरोना पर स्वास्थ्य मंत्रालय का चौंकाने वाला बयान , कही ये बड़ी बात health minstry

कोरोना पर स्वास्थ्य मंत्रालय का चौंकाने वाला बयान , कही ये बड़ी बात mr bika fb post

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने कुछ जानकारी साझा की है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि नवंबर में कोविड-19 (Covid-19) संक्रमण से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या औसत मामलों से अधिक थी. कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) पर बोलते हुए स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा, ‘मैं यह साफ करना चाहता हूं कि सरकार ने कभी पूरे देश को वैक्सीन लगाने की बात नहीं कही है. यह जरूरी है कि ऐसे वैज्ञानिक चीजों के बारे में तथ्यों के आधार पर बात की जाए.’

कोरोना पर स्वास्थ्य मंत्रालय का चौंकाने वाला बयान , कही ये बड़ी बात prachina in article 1

उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन वैक्सीन कितना प्रभावकारी है, उस पर निर्भर करेगा. हमारा उद्देश्य कोरोना ट्रांसमिशन चैन को तोड़ना है. अगर हम खतरे वाले लोगों को टीका लगाकर कोरोना ट्रांसमिशन रोकने में सफल रहे तो हमें शायद पूरी आबादी को वैक्सीन लगाने की जरूरत नहीं पड़े.

भारत में कोरोना संक्रमण के मामले कम
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव (Secretary Health Ministry) राजेश भूषण (Rajesh Bhushan) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, ‘आज भी विश्व के बड़े देशों के मुकाबले भारत में प्रति दस लाख लोगों पर मामले सबसे कम हैं. अनेक ऐसे देश हैं जहां पर भारत से प्रति दस लाख लोगों पर आठ गुना तक ज़्यादा मामले हैं. हमारी मृत्यु प्रति मिलियन दुनिया में सबसे कम है.’ राजेश भूषण ने कहा, ‘नवंबर महीने में प्रतिदिन औसतन 43,152 कोविड -19 मामले दर्ज किए गए थे. वहीं, प्रतिदिन कोरोना से ठीक होने वाले कोरोना मरीजों की संख्या 47,159 थी.’

पंजाब और हरियाणा में तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना केस
इनमें सबसे बड़ी बात यह कही गई कि पंजाब, राजस्थान और हरियाणा में एक बार दोबारा कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों से अपील की है कि वे भीड़भाड़ वाले इलाकों में मास्क जरूर लगाएं. साथ ही दूरी का खयाल रखें और बार-बार हाथ धोएं.

राजेश भूषण ने कहा, ‘क्लीनिकल ट्रायल मल्टी-सेंट्रिक और बहु-केंद्रित हैं. प्रत्येक साइट पर एक संस्थागत आचार समिति है, जो निर्माता या सरकार से स्वतंत्र है. किसी भी प्रतिकूल घटना के मामले में यह समिति भारत के ड्रग कंट्रोलर जनरल को अपनी रिपोर्ट देती है.

COMMENTS