राजस्थान में फिर चलेंगी हीट वेव, जानें अगले 3-4 दिन का मौसम विभाग का पूर्वानुमान

3 Min Read

जयपुर. राजस्थान के पश्चिमी हिस्से में एक बार फिर से हीट वेव के हालात बनने लग गये हैं. हाल ही में आये मौसम के बदलाव के बाद मरुधरा में वर्तमान में अधिकतर स्थानों का तापमान औसत से नीचे दर्ज किया जा रहा है. लेकिन अब अगले तीन-चार दिनों में तापमान में 3 से 5 डिग्री तक की बढ़ोतरी होने के आसार हैं. इससे प्रदेश के अधिकतर इलाकों में सामान्य के आसपास तापमान दर्ज होने की संभावना है. 28 मई से राजस्थान में पश्चिम विक्षोभ सक्रिय हो सकता है.

मौसम विभाग के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि आगामी दिनों में राजस्थान के अधिकांश स्थानों पर मौसम शुष्क रहने की संभावना है. हालांकि एक कम तीव्रता के पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से 28 और 29 मई को दोपहर बाद राज्य के उत्तरी भागों में कुछ स्थानों पर मध्यम दर्जे की थंडरस्टॉर्म गतिविधियां दर्ज हो सकती है. उसके अलावा अधिकांश स्थानों पर मौसम शुष्क बना रहेगा.

पश्चिमी राजस्थान में हीट वेव के आसार

मौसम विभाग के निदेशक ने बताया कि पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर, जैसलमेर और गंगानगर जिलों में 27 और 28 मई को कहीं-कहीं हीट वेव की परिस्थिति बनने की संभावना है. उन्होंने बताया कि शेष ज्यादातर स्थानों पर अधिकत तापमान 42 से 44 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है. 27 और 28 मई को पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर और जोधपुर संभाग के जिलों में तेज धूल भरी हवाएं चलेंगी. इन हवाओं की गति 30-40 किलोमीटर प्रति घंटा तक रहने की प्रबल संभावना है

राजस्थान में सामान्य से कम दर्ज हो रहा है तापमान
राजस्थान में पहले से सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के असर के चलते फिलहाल अधिकांश हिस्सों में तापमान सामान्य से भी कम दर्ज किया जा रहा है. जयपुर में बुधवार को अधिकतम तापमान सामान्य से करीब 4 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया. शेष राजस्थान के अन्य हिस्सों में भी तापमान सामान्य से कम बना हुआ है. इसके कारण प्रदेशवासियों को गर्मी से राहत मिली हुई है.

आंधी-तूफान और बारिश से गिर गया था तापमान
दो-तीन दिन पहले प्रदेशभर में मौसम में आये बदलाव के कारण कई जगह आंधी-तूफान के बाद बारिश हुई थी. उससे कई जगह तापमान 8 से 10 डिग्री तक गिर गया था. इससे राजस्थानवासियों को भीषण गर्मी से राहत मिल गई थी. लेकिन राहत का यह दौर अब समाप्त होने जा रहा है और फिर से लू के थपेड़े सहने पड़ सकते हैं.

Share This Article