अगर आप बच्चों को स्कूल भेज रहे है तो रखें इन बातों का ध्यान

अगर आप बच्चों को स्कूल भेज रहे है तो रखें इन बातों का ध्यान  अगर आप बच्चों को स्कूल भेज रहे है तो रखें इन बातों का ध्यान heading new 2

नई दिल्ली. छह महीने के लम्बे अंतराल के बाद देश में सोमवार से स्कूल खुल रहे हैं. कोरोना वायरस  के कारण स्कूलों को छह महीने से भी ज्यादा समय तक बंद करना पड़ा था. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अनलॉक 4 के तहत आंशिक रूप से स्कूल खोलने की अनुमति दी है. हालांकि उन स्कूलों को खोलने की इजाजत दी गई है जो कन्टेनमेंट जोन में नहीं हैं. बच्चों और स्टाफ की प्रवेश के दौरान स्क्रीनिंग की जाएगी. उचित शारीरिक दूसरी बनाने के अलावा बच्चों को मास्क और पानी की बोतल के अलावा सैनिटाइजर भी लेकर जाना होगा. कक्षा एक से लेकर आठवीं तक के बच्चों के लिए स्कूल बंद रहेंगे और 9 से 12 तक के बच्चों को पढ़ाई से सम्बंधित सलाह के लिए स्कूल जाने की अनुमति है.

अगर आप बच्चों को स्कूल भेज रहे है तो रखें इन बातों का ध्यान prachina in article 1

अनलॉक चार के तहत पचास फीसदी टीचिंग स्टाफ को ही आने की अनुमति दी गई है. केवल कक्षा 9 से 12 के छात्र-छात्राएं ही स्कूल जा पाएंगे. दिल्ली सरकार ने अपने स्कूलों को बंद रखने का फैसला लिया है. केंद्रीय विद्यालयों के बच्चों के अभिभावकों को स्कूल खोलने का प्लान भेजा गया है. बच्चों को स्वेच्छा से स्कूल भेजा जा सकेगा. इसके लिए कोई बाध्यता नहीं है. सोमवार-मंगलवार को ग्यारहवीं और बारहवीं के बच्चे आ सकते हैं. बुधवार और गुरुवार को दसवीं के बच्चे स्कूल जा सकते हैं. शुक्रवार और शनिवार को नौवीं के बच्चे स्कूल जा सकते हैं.

स्कूल में किन बातों का ध्यान रखना जरूरी होगा

स्कूल परिसर में थूक नहीं सकते. कहीं भी थूकना पूरी तरह से मना है.

चेहरे पर मास्क लगाना अनिवार्य है, बच्चे अपने साथ मास्क लेकर जाएंगे.

एक-दूसरे के साथ कम से कम छह फीट की दूरी बनाकर रखनी होगी.

एल्कोहल वाले सैनिटाइजर से हाथ धोने होंगे. खुद का लेकर जाएं.

खांसी और छींक के समय नाक को ढकना अनिवार्य है.

असहज महसूस करने का बीमारी जैसा कुछ लगने पर सम्बंधित अधिकारी या टीचर को सूचित करना होगा.

COMMENTS