प्‍याज की बढ़ती कीमतों पर लगेगा ब्रेक, सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला

प्‍याज की बढ़ती कीमतों पर लगेगा ब्रेक, सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला  प्‍याज की बढ़ती कीमतों पर लगेगा ब्रेक, सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला onion price 2

प्याज की बढ़ती कीमतों (Rising Onion Prices) पर रोक लगाने के लिए सरकार ने दो जरूरी कदम उठाने का फैसला कर लिया है. जमाखोरी रोकने और प्याज की उपलब्धता को भारतीय बाजार में सुनिश्चित करने के लिए केंद्र ने शुक्रवार को ये दो बड़े फैसले लिए हैं. इससे त्योहारी सीजन में प्याज की बढ़ती कीमतों पर ब्रेक लगने की उम्मीद है.

प्‍याज की बढ़ती कीमतों पर लगेगा ब्रेक, सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला prachina in article 1

प्याज की स्टॉक लिमिट तय
सरकार ने प्याज की स्टॉक लिमिट (Onion Stock Limit) को भी तय कर दिया है. इसके तहत थोक और खुदरा व्यापारियों के लिए अलग-अलग स्टॉक लिमिट तय की गई है. सरकार ने थोक विक्रेताओं के लिये प्याज की स्टॉक लिमिट को 25 मीट्रिक टन व खुदरा व्यापारियों के लिये 2 मीट्रिक टन निर्धारित किया है. ये स्टॉक लिमिट शुक्रवार 23 अक्टूबर से लेकर के 31 दिसंबर 2020 तक प्रभावी रहेगी.

लाल प्याज का होगा आयात
वहीं सरकार ने MMTC को लाल प्याज का आयात (Onion Import) करने के लिए भी आदेश जारी कर दिया है. आदेश मिलने के बाद MMTC जल्द ही इसके लिए टेंडर जारी करेगी. सरकार का कहना है कि 15 लाख टन प्याज के निर्यात होने की वजह से देश भर में प्याज की कमी हो गई है.

उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर बताया, ‘प्याज की बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने, और जमाखोरी रोकने के लिये सरकार द्वारा त्वरित कदम उठाये गये हैं. थोक विक्रेताओं के लिये प्याज की स्टॉक लिमिट को 25 मीट्रिक टन, व खुदरा व्यापारियों के लिये 2 मीट्रिक टन निर्धारित किया गया है.’

उन्होंने और एक ट्वीट में कहा की, ‘उपभोक्ताओं को किफायती मूल्य पर प्याज उपलब्ध कराने के लिए PM @NarendraModi जी के नेतृत्व में सरकार द्वारा अनेकों कदम उठाये गये हैं. इनमें प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध से लेकर, आयात के नियमों में ढील, और बफर स्टॉक से प्याज की आपूर्ति जैसे कदम शामिल हैं.’

उपभोक्ता मामलों की सचिव लीना नंदन ने बताया, ‘हमने बढ़ती कीमतों पर काबू पाने के प्रयासों को तेज कर दिया है. हमने राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों से खुदरा हस्तक्षेप के लिए बफर स्टॉक से प्याज लेने का अनुरोध किया है.’

केंद्र नासिक, महाराष्ट्र के भंडारित बफर स्टॉक से 26-28 रुपये प्रति किलोग्राम की खरीद दर पर उन राज्यों को प्याज की पेशकश कर रहा है, जो अपने आप स्टॉक को उठाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि जिन राज्यों को प्याज पहुंचाए जाने (डिलीवरी भेजने) की जरूरत है, उनके लिए कीमत 30 रुपये प्रति किलोग्राम होगी. इसके अलावा, सचिव ने कहा कि सहकारी संस्था नाफेड, जो सरकार की ओर से प्याज की बफर स्टॉक के लिए खरीद और उनका रखरखाव कर रहा है, देशभर के थोक मंडियों में प्याज के स्टॉक को ला रहा है.

ये है फिलहाल प्याज की कीमतें
फिलहाल देश भर में नवरात्रि का त्योहार होने की वजह से प्याज को लोग खरीद नहीं रहे हैं. हालांकि इस त्योहार की समाप्ति के बाद प्याज की मांग बढ़ जाएगी, जिसके बाद इसकी कीमतों के और बढ़ने की आशंका है. कंज्यूमर अफेयर्स मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक मंगलवार को चेन्नई में प्याज की खुदरा कीमतें 73 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गईं थी. दिल्ली में प्याज 50 रुपये प्रति किलो, कोलकाता में 65 रुपये प्रति किलो और मुंबई में 67 रुपये प्रति किलो पर बिक रही है.

एक अनुमान है कि अगर कीमतें ऐसे ही बढ़ती रहीं तो दिवाली तक प्याज की कीमतें 100 रुपये प्रति किलो के पार पहुंच जाएंगी. कंज्यूमर अफेयर्स मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि खरीफ फसल की 37 लाख टन प्याज जल्द मंडियों में पहुंच जाएगी जिससे कीमतों में राहत देखने को मिलेगी.

COMMENTS