बीकानेर में आयोजित होगा इंटरनेशनल लिटरेचर फेस्टिवल और रम्मत फेस्टिवल-डाॅ. कल्ला

बीकानेर में आयोजित होगा इंटरनेशनल लिटरेचर फेस्टिवल और रम्मत फेस्टिवल-डाॅ. कल्ला  बीकानेर में आयोजित होगा इंटरनेशनल लिटरेचर फेस्टिवल और रम्मत फेस्टिवल-डाॅ. कल्ला WhatsApp Image 2021 01 31 at 4

बीकानेर में आयोजित होगा इंटरनेशनल लिटरेचर फेस्टिवल और रम्मत फेस्टिवल-डाॅ. कल्ला mr bika fb post
बीकानेर। लोकायन संस्थान तथा कला संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान् में आयोजित पंद्रह दिवसीय बीकानेर कला संस्कृति एवं थिएटर फेस्टिवल ‘कला रंग राग’ का समापन समारोह रविवार को धरणीधर रंगमंच पर आयोजित हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कला एवं संस्कृति मंत्री डाॅ. बी. डी. कल्ला थे। उन्होंने कहा कि बीकानेर में इस वर्ष अक्टूबर-नवंबर में इंटरनेशनल आर्ट फेस्टिवल आयोजित किया जाएगा। कला संस्कृति विभाग द्वारा इसकी तैयारियां प्रारम्भ कर दी गई हैं। इसी प्रकार बीकानेर की रम्मतों को जन-जन तक पहुंचाने के उद्देश्य से महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय के रम्मत चौक में रम्मत फेस्टिवल भी आयोजित किया जाएगा। उन्होंने लोकायन संस्थान द्वारा आयोजित फेस्टिवल की सराहना की तथा कहा कि संस्था द्वारा रम्मत फेस्टिवल एवं इंटरनेशनल आर्ट फेस्टिवल में भी भागीदारी निभाई जाए। विभाग की इस पहल का उद्देश्य यही है कि युवा पीढ़ी लोक संस्कृति को समझे और सीखे। उन्होंने कहा कि बीकानेर गंगा जमुनी तहजीब वाला आलीजा शहर है। यह सही मायनों में लोक कलाओं और लोक परम्पराओं को जीता है। उन्होंने भारत की संस्कृति उदार चरित्र वाली संस्कृति बताया कि यह पूरी दुनिया को जोड़ने की खूबी रखती है। संस्कृति को किसी देश की सीमाओं में नहीं बांधा जा सकता। डाॅ. कल्ला ने कहा कि राजस्थान के कण-कण में कलाएं रची-बसी हैं। यहां गीतों के माध्यम से त्यौहारों के बारे में पता चल जाता है। यहां महीनों, त्यौहारों और संस्कारों के गीत हैं। युवा पीढ़ी इनसे दूर होती जा रही है। ऐसे में लोकायन द्वारा किए गए प्रयास मील का पत्थर साबित होंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर लोकायन द्वारा वर्चुअल माध्यम पर फेस्टिवल का आयोजन किया गया। इससे दुनिया भर के देशों में बीकानेरी संस्कृति की पहचान हुई है। उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से लोक कलाओं, लोक परम्पराओं, साहित्य एवं संस्कृति से जुड़े कलाकारों को मंच मिला। फेस्टिवल को ऑनलाइन नो लाख से भी अधिक लोगों ने देखा।
लोकायन के गोपाल सिंह चौहान ने जानकारी दी कि इस अवसर पर फेस्टिवल में भाग लेने वाले कलाकारों, साहित्यकारों, लेखकों एवं कला धर्मियों को स्मृति चिह्न एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया. इस अवसर पर लोकायन द्वारा डॉ जितेंद्र आचार्य का कोरोना वॉरियर के रूप में डॉ कल्ला के हाथों साफा एवं स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया. कार्यक्रम में लक्ष्मी नाथ मंडल द्वारा हरजस के गीतों की प्रस्तुति के अलावा बसंत कुमार ओझा द्वारा नाक से बांसुरी वादन का अध्भुत प्रस्तुति हुई एवं लालचंद उपध्याय ने धमाल गीत गाये।
लोकायन के महावीर स्वामी ने बताया कि कार्यक्रम के विशिष्ट अथिति के रूप में पर्यटन विभाग बीकानेर के सहायक निदेशक कृष्ण कुमार, लोकायन के संस्थापक कृष्ण चंद्र शर्मा एवं जीवन बीमा निगम के गुलाब सिंह चौधरी तथा कमलेश परिहार उपस्थित थे. कार्यक्रम के अंत में लोकायन के उपाध्यक्ष चंद्र कुमार पुरोहित ने सभी आगंतुकों का धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का सञ्चालन रोहित बोड़ा ने किया।

COMMENTS