जानें क्यों राजस्थान के डॉक्टरों ने सरकार से की दिवाली पर पटाखे बैन करने की मांग

जानें क्यों राजस्थान के डॉक्टरों ने सरकार से की दिवाली पर पटाखे बैन करने की मांग  जानें क्यों राजस्थान के डॉक्टरों ने सरकार से की दिवाली पर पटाखे बैन करने की मांग rajasthan ben

जयपुर. राजस्थानी जयपुर के SMS मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के चिकित्सकों ने इस बार दीपावली पर पटाखों पर पूर्ण रोक की मांग की है. SMS मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के सीनियर प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष डॉ एस. बनर्जी और सीनियर प्रोफेसर डॉ. रमन शर्मा ने कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुधीर भंडारी को पत्र लिखकर उनसे मांग की है कि इस बार दीपावली पर पटाखों पर पूर्ण रोक लगाई जाए. इन डॉक्टर्स का कहना है कि कोविड-19 (COVID-19) के मरीजों को पटाखों से परेशानी हो सकती है. पटाखे कोविड-19 मरीज के श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है. ऐसे में पटाखे चलाने से वातावरण प्रदूषित होता है. वायु प्रदूषण (Air Pollution) के चलते कोविड-19 के मरीजों की तबीयत और ज्यादा खराब हो सकती है. ऐसे में पटाखों पर पूर्ण रोक लगानी चाहिए.

जानें क्यों राजस्थान के डॉक्टरों ने सरकार से की दिवाली पर पटाखे बैन करने की मांग prachina in article 1

राजस्थान में TB के लिए भी अभियान किया शुरू 

राज्य में स्वास्थ्य विभाग जहां एक ओर कोरोना से डटकर मुकाबला कर रह है, उसी के साथ विभाग ने टीबी रोग की रोकथाम के लिए भी तैयारी कर ली है. राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के तहत राज्य में टीबी रोगियों की खोज के लिए 3 से 16 अक्टूबर तक स्क्रीनिंग के लिए विशेष अभियान “एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान” चलाया जा रहा है जिसमें स्वास्थ्यकर्मियों, एएनएम व आशा सहयोनियों द्वारा जिलों के शहरीव ग्रामीण क्षेत्र में सामुहिक रूप से इस सघन टीबी रोग खोज अभियान को आयोजित किया जाएगा. अभियान के तहत आशा सहयोगिनी, एएनएम एवं अन्य स्वास्थ्य कार्मिकों के माध्यम से घर-घर सर्वे कार्य तीन अक्टूबर से प्रारंभ होगा जिसमें संभावित टीबी रोगी की नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जांच करवाई जाएगी.

अभियान में संभावित टीबी रोगी की तलाश में विभागीय टीम विशेष रूप से कच्ची बस्तियों, खनन क्षेत्र, कुपोषित वर्ग, दूर-दराज के गांव-ढाणियों, निर्माण क्षेत्र आदि घर-घर दस्तक देंगी एवं टीबी रोगी चिन्हित करेंगी ताकि उनका समुचित उपचार हो सके. सर्वे के दौरान जिस भी घर में किसी व्यक्ति को दो सप्ताह से अधिक खांसी, बुखार, भूख कम लगना, लगातार वजन में गिरावट, बलगम में खून आदि लक्षण मिलेंगे उन्हें संभावित टीबी रोगी मानते हुए चिन्हित किया जाएगा. इसके बाद नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर संबंधित रोगी की बलगम एवं अन्य आवश्यक जांच करवाई जाएगी जिसमें टीबी रोग की पुष्टि होने पर रोगी का उपचार प्रारंभ किया जाएगा.

COMMENTS