राजस्थान में अगले 2 दिन बंद रहेगी मंडिया , जानिए वजह

 राजस्थान में अगले 2 दिन बंद रहेगी मंडिया , जानिए वजह

राजस्थान (Rajasthan) की अनाज और दलहन मंडियों में 6 और 7 जुलाई को कारोबार नहीं होगा. ऑक्शन नहीं होने से मौटे तौर पर 600 करोड़ रुपए प्रति दिन का कारोबार प्रभावित होगा, वहीं 5 लाख से अधिक कामगार प्रभावित होंगे.

राजस्थान खाद्य पदार्थ व्यापार संघ (Rajasthan Foods Trade Association) की आज हुई आमसभा में यह निर्णय लिया गया. देश के अन्य राज्यों में भी दलहन कारोबारी स्टॉक लिमिट लगाने का विरोध कर रहे हैं.

राजस्थान खाद्य पदार्थ व्यापार संघ अध्यक्ष बाबूलाल गुप्ता (Babulal Gupta) का कहना है कि इस निर्णय से किसी का भला नहीं हो सकता. एक तरफ तो केंद्र सरकार किसानों का एमएसपी से अधिक मूल्य दिलाने के दावे करती है वहीं अधिक मूल्य मिलता है तो इस तरह के नियम लागू करती है.

दाल कीमतों में 150 से 200 रुपये प्रति क्विंटल की गिरावट आई
गौरतलब है कि दालों की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के लिए केंद्र सरकार ने स्टॉक लिमिट तय की है. इसके दायरे में खुदरा और थोक कारोबारियों के साथ-साथ दाल मिलों को भी लिया गया है. केंद्र के इस निर्णय के बाद दाल कीमतों में 150 से 200 रुपये प्रति क्विंटल की गिरावट आई है. इस निर्णय से मूंग को अलग रखा गया है.

क्या कहना है व्यापारियों का
कारोबारियों का कहना है कि यह वक्त दालों के स्टॉप पर अंकुश लगाने का नहीं है क्योंकि कई राज्यों में नई फसल आ रही है. गौरतलब है कि कोरोना काल में आम लोगों को राहत देने के लिए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. दालों की महंगाई रोकने केलिए केंद्र सरकार ने दालों की स्टॉक लिमिट तय कर दी है. यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है. इसे थोक विक्रेताओं, रिटेलर्स, मिल मालिकों और इम्पोर्टर्स पर लागू किया गया है. दालों की बढ़ती कीमतों को देखते हुए सरकार ने मूंग को छोड़कर सभी दोलों पर 31 अक्टूबर तक स्टॉक लिमिट लगाई है.

कारोबारी किसी भी दाल या दलहन का सरकार की तरफ से तय लिमिट से ज्यादा का स्टॉक नही रख पाएंगे. सरकार ने रिटेल कारोबारियों के लिए 5 टन स्टॉक की लिमिट तय की है जबकि थोक कारोबारियों और आयातकों के लिए 200 टन की लिमिट तय की गई है, जिसमें किसी एक वैरायटी का स्टॉक 100 टन से ज्यादा नहीं हो सकता है. दाल मिल भी अपनी कुल सालाना क्षमता का 25 फीसदी से ज्यादा का स्टॉक नही रख पाएंगी.

S.N.Acharya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page