बैंकिंग-फाइनेंस से जुड़े ये काम निपटा लीजिए, बढ़ी हुई डेडलाइन भी ख़त्म होने को है

बैंकिंग-फाइनेंस से जुड़े ये काम निपटा लीजिए, बढ़ी हुई डेडलाइन भी ख़त्म होने को है  बैंकिंग-फाइनेंस से जुड़े ये काम निपटा लीजिए, बढ़ी हुई डेडलाइन भी ख़त्म होने को है 26 03 2020 nirmala sitaraman 20141690

देश में कोरोना वायरस के मामले मार्च से ही बढ़ने शुरू हो गए थे. मार्च में ही फाइनेंशियल ईयर भी पूरा होता है. बैंकिंग और फाइनेंस से जुड़े कई काम 31 मार्च तक निपटाने होते हैं. कोरोना के बढ़ते इंफेक्शन के बीच ये काम हो पाना मुश्किल था. इसलिए सरकार ने कई कामों की डेडलाइन 30 जून तक बढ़ा दी थी.

अब जब 30 जून भी नज़दीक आ गई है, तो जान लीजिए कि कौन-से ऐसे काम हैं, जिनकी बढ़ी हुई डेडलाइन भी ख़त्म होने को है.

# पिछले फाइनेंशियल ईयर के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की समय-सीमा 30 मार्च थी, जिसे बढ़ाकर 30 जून किया गया था. संशोधित आईटीआर के तौर पर इसे दाखिल कर सकते हैं.

# फाइनेंशियल ईयर के लिए टैक्‍स सेविंग योजनाओं में निवेश करने के लिए भी 30 जून आखिरी तारीख है. 80सी और 80डी के तहत मिलने वाली छूट के लिए निवेश कर सकते हैं.

# सरकार ने कंपनियों के लिए फॉर्म-16 जारी करने की तारीख बढ़ाकर 15 से 30 जून कर दी थी. अब तक पिछले फाइनेंशियल ईयर का फॉर्म-16 नहीं मिला है, तो ले लें.

# पीपीएफ और सुकन्या समृद्धि जैसी छोटी बचत योजनाओं में पिछले फाइनेंशियल ईयर के लिए न्यूनतम राशि जमा कराने की तारीख 30 मार्च थी. इसे भी बढ़ाकर 30 जून किया गया था. 30 जून तक ये न्यूनतम राशि जमा करा दें, वरना जुर्माना लगेगा.

इसी तरह रिकरिंग में भी अप्रैल और मई का पैसा 30 जून तक जमा करा दें.

# सरकार ने 30 जून तक के लिए ये छूट दी थी कि किसी भी बैंक के किसी भी एटीएम से कितनी भी बार पैसा निकाल सकते हैं, कोई चार्ज नहीं लगेगा. ये छूट 30 जून को ख़त्म हो रही है.

# 30 जून तक सेविंग अकाउंट में मिनिमम बैलेंस न रखने की छूट दी गई थी. ये छूट भी अब खत्म हो रही है. आपके खाते का जो मिनिमम बैलेंस तय है, वो मेंटेन कर लें.

अगर इनमें से कोई काम आपका पेंडिंग है, तो 30 जून तक निपटा लें. ध्यान रहे कि इन कामों के लिए आपको घर से बाहर भी निकलना ही पड़ सकता है. ऐसे में तमाम कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए ही कहीं जाएं

COMMENTS