चांद पर अब हो जाएगी रात, विक्रम से संपर्क की उम्मीद कम

चांद पर अब हो जाएगी रात, विक्रम से संपर्क की उम्मीद कम chandrayaan 2 चांद पर अब हो जाएगी रात, विक्रम से संपर्क की उम्मीद कम 18 09 2019 chandrayaan 2 19588945

इसरो के वैज्ञानिक अब भी अपने चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर से संपर्क साधने में लगे हैं। विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद अब कम ही है। क्योंकि चांद पर अब रात होने वाली है। वहीं भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने चंद्रयान-2 मिशन में लैंडर विक्रम से संपर्क टूटने के बाद भी साथ देने के लिए देशवासियों के प्रति आभार जताया है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने ट्वीट करके कहा, ‘हमारा साथ देने के लिए धन्यवाद।दुनिया भर में भारतीयों की उम्मीदों और सपनों के बल पर हम आगे बढ़ना जारी रखेंगे। हमें हमेशा आसमान छूने के लिए प्रेरित करने के लिए धन्यवाद।’

7 सितंबर को तड़के 1.50 बजे के आसपास विक्रम लैंडर का चांद के दक्षिणी ध्रुव पर हार्ड लैंडिंग हुई थी। जिस समय चंद्रयान-2 का विक्रम लैंडर की हार्ड लैंडिंग हुई, उस समय वहां सुबह थी। यानी सूरज की रोशनी चांद पर पड़नी शुरू हुई थी। चांद का पूरा दिन यानी सूरज की रोशनी वाला पूरा समय पृथ्वी के 14 दिनों के बराबर होता है। यानी 20 या 21 सितंबर को चांद पर रात हो जाएगी। 14 दिन काम करने का मिशन लेकर गए विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर के मिशन का टाइम पूरा हो जाएगा। आज 18 सितंबर है, यानी चांद पर 20-21 सितंबर को होने वाली रात में कुछ ही वक्त बचा है। यानी, चांद पर शाम हो चुकी है। हमारे कैलेंडर में जब 20 और 21 सितंबर की तारीख होगी, तब चांद पर रात का अंधेरा छा चुका होगा।

COMMENTS

WORDPRESS: 0