NSS समापन समारोह -बी.जे.एस. रामपुरिया जैन लॉ कॉलेज, बीकानेर

NSS समापन समारोह -बी.जे.एस. रामपुरिया जैन लॉ कॉलेज, बीकानेर  NSS समापन समारोह -बी.जे.एस. रामपुरिया जैन लॉ कॉलेज, बीकानेर nss college

स्वयं का मुल्यांकन ही सबसे बड़ा प्रमाण-पत्र है ये उद्गार आज ब.ज.सि. रामपुरीया जैन विधि महाविद्यालय में 7 दिवसीय राष्ट्रीय सेवा योजना के विषेष षिविर के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में महाराजा गंगासिंह विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. भगीरथ सिंह ने स्वयंसेवकों केा कहे। इस अवसर पर कुलपति महोदय ने स्वयंसेवको को संदेष दिया कि वर्तमान को भविष्य के साथ जीना चाहिये। लेकिन हमारी भारतीय संस्कृति के अनुसार जीवन यापन करना चाहिये। भूतकाल में हमारे पुर्वज हमारे से ज्यादा संयम पूर्ण जीवन पद्धती को अपनाया था। वर्तमान में स्वास्थय को लेकर सरकार जागरूकता अभियान चलाती है। लेकिन यदि हम स्वस्थ जीवन जीना चाहते हैं तो हमें 2019 में 1960 जैसे दिनचर्या व्यतीत करनी होगी। आज के चालीस साल पूर्व के खान-पान रहन-सहन को अपनाना होगा। जिससे हमारे स्वास्थय नीरोग रह सकता है। वर्तमान में हम पाष्चात्य सभ्यता के पीछे दौड रहे है। जबकि हमारी खुद की संस्कृति को अपनाकर ना केवल विष्वगुरू बन सकते हैं बल्कि जब की स्वच्छ और स्वस्थ जीवन जी सकते है। अन्त में कुलपति महोदय ने स्वयंसेवको को कहा कि कार्यक्रम प्रभारी के द्वारा बताये गये कार्यो से यह लगता है कि वास्तव में सात दिवसीय विषेष षिविर सफल रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि आप अपने परिवार में भी व्यवस्थित जीवन पद्धति को अपनाये जिससे कि ना केवल अपना बल्कि पूरे परिवार का व्यक्तित्व विकास हो सके । हमें दूसरों पर निर्भर नहीं रहना चाहिये बल्कि स्वयं आगे बढकर सेवा भाव से कार्य करना चाहिये। यह व्यक्तित्व विकास में भी लाभदायक है।

इसके पश्चात् समापन समारोह के विषिष्ठ अतिथि महाराजा गंगासिंह विष्विद्यालय के उप कुल सचिव डाॅ बिठ्ठल बिस्सा थे। डाॅ बिस्सा ने स्वयंसेवकों को बताया कि स्वयंसेवकों से आह्वान किया विधि के विद्यार्थियों को अपने ज्ञान से आम व्यक्ति का लाभान्वित करना चाहिए क्योंकि सहायता राष्ट्र सेवा योजना का मुख्य ध्येय होता है और विधि के ज्ञान से गरीब व असहाय लोगों की सहायता कर उन्हें अपने अधिकारों के बारें में जागृति दें तथा अधिकारों को लागू करने हेतु उनकी सहायता करना एक विधि विद्यार्थी होने के नाते उनका परम कर्तव्य होता है। उन्होंने स्वयंसेवको को निजता के अधिकार एवं पारिवारीक विधी से संबंधित विभिन्न प्रावधानों से स्वयंसेवको को जानकारी दी। इसके साथ ही महाविद्यालय के गौरवमयी इतिहास का वर्णन करते हुए डाॅ बिस्सा ने कहा कि गुजरात में जब भुकम्प आया था तब महाविद्यालय के स्वयंसेवको ने वहां जाकर सेवा भाव से भुकम्प पिडितों की सहायता की थी। उन्होंने विधार्थियों को प्रत्येक कार्य को जज्बे के साथ करने की पे्ररणा दी उन्होंने इस अवसर पर अपने व्यक्तिगत जीवन तथा कई अन्य अनुभव से भी स्वयंसेवको को प्रेरीत किया।
समापन समारोह के कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए स्वागतीय भाषण में प्राचार्य डाॅ. अनन्त जोशी ने अतिथियों का स्वागत करते हुए आभार एवं अभिनन्दन जताया उन्होंने कहा कि आपका मार्गदर्षन महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवको के लिये बहुत ही लाभन्वीत करेगा। इस अवसर पर स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए सर्वप्रथम बधाई दी कि उन्होंने सात दिवस तक निःस्वार्थ भाव से कार्य करके शिविर को सफलता पूर्वक संचालित किया है। उन्होंने स्वयंसेवकों को कहा कि विद्यार्थी जीवन में ही व्यक्ति अपने व्यक्तित्व निर्माण करता है उसे अध्ययन के साथ साथ सहशैक्षणिक गतिविधियों में भी सम्मिलित रहना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि स्वयंसेवको के द्वारा किये गये श्रमदान, स्वास्थय जागरूकता रैली, मौसमी बिमारीयां, राजकीय माध्यमिक विद्यालय, घडसीसर में किये गये सामाजिक सरोकार का कार्य सराहनीय है।
कार्यक्रम का संचालन करते हुए एनएसएस प्रभारी डाॅ. रीतेश व्यास ने सात दिवसीय शिविर के दौरान हुई गतिविधियों की रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने स्वयंसेवकों द्वारा किए गये काम की सराहना की एवं बेस्ट राष्ट्रीय सेवा स्टूडेण्ड मेल में प्रेम प्रकाष विष्नोई, आकिब, रामदिन, ताराचन्द, अषोक विष्नोई एवं बेस्ट राष्ट्रीय सेवा फीमेल में प्रिंयका शर्मा, जयश्री कुण्डलीया, पार्वती मेघवाल, गुलषन कौर को सम्मानित किया।
समापन समारोह के अन्त में वरिष्ठ व्याख्याता श्री सुरेष भाटिया जी ने अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आप ने महाविद्यालय के स्वयंसेवको को जो मार्गदर्षन दिया उसको वह अपने जीवन में काम लेते हुए जीवन को सफल बनायेंगे।
कार्यक्रम में डाॅ शराफल अली, डाॅ. राकेश धवन, डाॅ प्रीति कोचर, श्री श्याम नारायण रंगा, श्री मगन सोलंकी आदि उपस्थित थे।
अन्त में विषेष षिवीर के समापन में राष्ट्र गान के साथ हुआ।
– डाॅ. रीतेश व्यास
रासेयो प्रभारी

COMMENTS

WORDPRESS: 0