संसद / जब लोग जनादेश का अपमान करते हैं, तो दुख होता है; क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया: मोदी

संसद /	जब लोग जनादेश का अपमान करते हैं, तो दुख होता है; क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया: मोदी mr bika fb post

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राज्यसभा में कहा कि कोई नेता जनादेश का अपमान करता है तो दुख होता है। मोदी ने कहा कि सदन में कुछ नेता कहते हैं कि भाजपा और उसके सहयोगी जीत गए, लेकिन देश और लोकतंत्र हार गया। ये दुर्भाग्यपूर्ण हैं। मतदाताओं के फैसले पर सवाल क्यों उठाए जाते हैं? क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया? क्या रायबरेली में हिंदुस्तान हार गया है? क्या अमेठी में हिंदुस्तान हार गया है? यानी कांग्रेस हारी तो देश हार गया।

संसद /	जब लोग जनादेश का अपमान करते हैं, तो दुख होता है; क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया: मोदी prachina in article 1

मोदी ने गालिब का शेर पढ़ते हुए कांग्रेस और गुलाम नबी आजाद पर तंज कसा। उन्होंने कहा, ”कुछ लाइनें कहना चाहूंगा। ‘आजाद साहब को ये अच्छा भी लगता है। ताउम्र गालिब यह भूल करता रहा, धूल चेहरे पर थी, आइना साफ करता रहा’।”

‘दूसरे को उपदेश देने से पहले अपने गिरेबान में झांकिए’

मोदी ने कहा, ”मैं सार्वजनिक रूप से बोलचाल में लोग जो कहते हैं, उन्हें सुधारता हूं, आक्रोश भी व्यक्त करता हूं। यहां उपदेश दिया गया कि इस तरह से हरा दिया गया, किसी कैंडिडेट को उस तरह से हरा दिया गया। यहां तो कुछ पार्टियों का इतिहास है कि राष्ट्रपति के कैंडिडेट को भी हरा दिया गया। दूसरे को उपदेश देने से पहले अपने गिरेबान में झांकिए।”

‘कांग्रेस को एनआरसी का क्रेडिट लेना चाहिए’
प्रधानमंत्री ने कहा, ”जब दिल्ली मेें सिखों को जला दिया गया, उस पार्टी के लोग आज भी दल में हैं, सम्मानित पदों पर हैं। बड़े-बड़े लोगों के नाम हैं इसलिए हमें उपदेश ना दें। मेरी पार्टियों के सदस्यों से कहता हूं कि किसी को अधिकार नहीं कि किसी के लिए कुछ भी बोल दें। ये शोभा नहीं देता। यहां पर एक ही चिंता का विषय है, क्रेडिट का और ये बड़ा भारी है। एनआरसी की चर्चा का क्रेडिट आप नहीं लेंगे। राजीव गांधी की सरकार ने असम एकॉर्ड में एनआरसी स्वीकार किया था। हमें सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया और हम लागू कर रहे हैं। आप क्रेडिट लीजिए ना। वोट भी लेना, क्रेडिट भी लेना… कुछ तो लीजिए। हम पूरी मेहनत से इसे लागू करेंगे। हमारे लिए ये वोट बैंक की राजनीति नहीं देश की एकता और अखंडता से जुड़ा मुद्दा है।”

आजादजी कुछ दिन तो गुजरात में गुजारिए’
मोदी ने कहा, ”यहां पर सरदार साहब को याद किया गया। हम भी मानते हैं सरदार साहब पहले प्रधानमंत्री होते तो जम्मू-कश्मीर समस्या ना होती, जो हालत गांवों की है, वो ना होती। उन्होंने रियासतों को एक किया, ये तथ्य कोई नहीं मिटा सकता। कांग्रेस के लिए उन्होंने जीवन खपा दिया, शुद्ध कांग्रेसी थे। गुजरात में चुनाव होता है, तो सरदार साहब पोस्टर में दिखते हैं। देश में चुनाव होता है तो कहीं नहीं दिखते हैं। मैं आग्रह करता हूं कि हमने दुनिया का सबसे बड़ा स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी बनाया, आप एक बार जाइए श्रद्धा सुमन तो अर्पित करिए। आजादजी कुछ दिन तो गुजारिए गुजरात में।”

Zomato  संसद /	जब लोग जनादेश का अपमान करते हैं, तो दुख होता है; क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया: मोदी o2 badge r

COMMENTS

You cannot copy content of this page