NEET री-एग्जाम के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका : 23 लाख उम्‍मीदवारों की बढ़ी चिंता, जानें अब तक क्‍या-क्‍या हुआ? NEET 2024 UG Exam

6 Min Read
NEET 2024

NEET 2024 UG Exam: मेडिकल कोर्सेज में एडमिशन के लिए होने वाली नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) परीक्षा को लेकर देश भर में घमासान मचा है. नीट को लेकर हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट में तक कई याचिकाएं दायर की गईं हैं, हालांकि अभी नीट परीक्षा कराने वाली एजेंसी एनटीए की ओर से इस बारे में कोई स्‍पष्‍ट जानकारी नहीं दी गई है. आइए देखते हैं नीट को लेकर अब तक क्‍या-क्‍या हुआ है

 

ये है पूरा मामला?
सबसे अधिक बवाल नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट यानी NEET का रिजल्‍ट आने के बाद मचा है.  दरअसल नीट के रिजल्‍ट में इस बार 67 परीक्षार्थियों को टॉपर घोषित कर दिया गया. 67 ऐसे स्टूडेंट्स थे, जिन्‍होंने 720 में से 720अंक हासिल किए यानि उन्‍हें पूरे 100 फीसदी नंबर मिले, इसमें भी एक चौंकाने वाली बात यह हुई कि इन टॉपर्स में 6 स्टूडेंट्स ऐसे निकले, जिन्‍होंने एक ही एग्‍जाम सेंटर पर परीक्षा दिया था. यह परीक्षा सेंटर हरियाणा के झज्‍जर में है. इतना ही नहीं इस परीक्षा में कुछ परीक्षार्थियों के नंबर 718 और 719 तक आए जानकारों का कहना है कि परीक्षा की स्‍कीम के अनुसार ऐसा संभव नहीं है. इसको लेकर भी सवाल उठ रहे हैं.

स्‍टूडेंट का कहना- मेरी आंसरशीट फाड़ी गई
X पर ही लखनऊ की आयुषी पटेल ने अपना वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में आयुषी ने बताया कि जब 4 जून को रिजल्ट आया, तब उनका रिजल्ट साइट पर जनरेट नहीं हुआ था। उन्हें लगा कि ये शायद सर्वर की कोई समस्या है, क्योंकि 23 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स इसका रिजल्ट चेक कर रहे होंगे।

 

12वीं बोर्ड एग्जाम में फेल, NEET में 705 मार्क्स
एक यूजर प्रतीक आर्यन ने अपने ट्वीट में एक स्‍टूडेंट अंजली पटेल की बोर्ड मार्कशीट और NEET स्‍कोरकार्ड शेयर किए हैं। बोर्ड मार्कशीट में अंजली फिजिक्‍स और केमिस्‍ट्री में फेल हैं जबकि NEET रिजल्‍ट में उन्हें 720 में से 705 मार्क्स मिले हैं।
इससे ये सवाल उठता है कि अगर किसी के बोर्ड एग्जाम में नंबर कम हैं, तो वो कैंडिडेट NEET UG जैसे ऑल इंडिया लेवल पर होने वाले एंट्रेंस एग्जाम में इतने मार्क्स कैसे ला सकता है, जहां कॉम्पिटिशन किसी बोर्ड या स्कूल से नहीं बल्कि 23 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स से है।

 

NEET UG 2024 को लेकर छात्रों के सवाल

एक ही परीक्षा सेंटर पर 6 टॉपर कैसे
NEET टॉपर्स की मेरिट लिस्ट में 8 छात्रों के रोल नंबर एक ही सीरीज के हैं। सीरियल नंबर 62 से लेकर 69 तक कुल 8 छात्र में से 6 छात्रों ने रैंक-1 हासिल की। इन सभी को 720 में से 720 अंक मिले। इन सभी ने बहादुरगढ़ स्थित एक ही एग्जाम सेंटर पर परीक्षा दी थी।

कैसे 718, 719 नंबर मिले
कई छात्रों को 718, 719 अंक दिए गए। NTA ने कहा था कि उन्हें ये अंक ग्रेस मार्क्स के तौर पर दिए गए हैं। दरअसल, नीट का पेपर 720 अंक का होता है। हर सवाल के चार अंक मिलते हैं। हर गलती के एक अंक कटते हैं। अब ऐसे में यदि कोई सिर्फ एक सवाल छोड़ देता है तो उसे 716 अंक मिलेंगे। यदि कोई सिर्फ एक सवाल गलत करता है तो उसे 715 अंक मिलेंगे। ऐसे में 718, 719 अंक पाना असंभव है।

ग्रेस मार्क्स बिना जानकारी के क्यों लागू हुआ
छात्रों का कहना है कि बिना जानकारी के ग्रेस मार्क्स क्यों दिए गए? छात्र बिना ग्रेस मार्क्स के NEET की ओरिजिनल मेरिट लिस्ट जारी करने की मांग कर रहे हैं। छात्रों की मांग ये भी है कि जिन सेंटरों पर ग्रेस मार्क्स दिए गए हैं, उनका नाम बताया जाए।

ग्रेस मार्क्स पाने का आधार क्या
छात्रों का ये भी पूछना है कि ग्रेस मार्क्स पाने का आधार क्या है? कितना समय बर्बाद होने पर कितने नंबर दिए गए?

NTA ने दिए थे शिकायतकर्ताओं के जवाब
NEET रिजल्ट पर गड़बड़ी के आरोप लगने के बाद NTA ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर शिकायतकर्ताओं के सवालों के जवाब दिए थे।

 

2015 में कैंसिल हो चुका है मेडिकल एंट्रेंस एग्‍जाम
साल 2015 में भी पेपर लीक की खबर फैली थी, आरोप थे कि कई एग्जाम सेंटर्स पर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज के जरिए स्टूडेंट्स को क्वेश्चन पेपर के आंसर (Answer Key) भेज दिए गए थे। हालांकि, तब NEET नहीं बल्कि AIPMT ऑल इंडिया प्री मेडिकल टेस्ट होता था। कोर्ट ने मामले पर फैसला दिया कि एग्जाम कैंसिल किया जाए और परीक्षा 4 हफ्ते में दोबारा ली जाए।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply