मनरेगा में 100 दिन काम कर चुके श्रमिकों को रोजगार में प्राथमिकता दे-मेहता

मनरेगा में 100 दिन काम कर चुके श्रमिकों को रोजगार में प्राथमिकता दे-मेहता  मनरेगा में 100 दिन काम कर चुके श्रमिकों को रोजगार में प्राथमिकता दे-मेहता 20210211 174131 scaled

मनरेगा में 100 दिन काम कर चुके श्रमिकों को रोजगार में प्राथमिकता दे-मेहता mr bika fb post

बीकानेर। जिला कलक्टर नमित मेहता ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के अंतर्गत स्वीकृत कार्यों पर अधिक से अधिक रोजगार देने के निर्देश दिए है। उन्होंने मनरेगा के तहत हुए कामों को लेकर विकास अधिकारियों से फीड बैक लिया और निर्देश दिए कि स्वीकृत कार्यों पर, जिन श्रमिकों ने 100 दिन कार्य कर लिया है, उन्हें रोजगार देने में प्राथमिकता दे।

मनरेगा में 100 दिन काम कर चुके श्रमिकों को रोजगार में प्राथमिकता दे-मेहता prachina in article 1

मेहता ने गुरूवार को वीसी के माध्यम से जिले के विकास अधिकारियों से ग्रामीण विकास योजनाओं की क्रियान्विति पर जोर दिया और कहा कि मजदूरी में सुधार लाए तथा जिन कार्यों पर ज्यादा महिला श्रमिक है,उन पर महिला मेट नियुक्त की जाए। साथ मनरेगा की गाइड लाइन की पूरी पालना करवाई जाए।
मेहता ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिन शौचालयों का निर्माण हो चुका है और उनका आॅनलाईन इन्द्राज नहीं किया गया है, उसे आॅनलाईन किया जाए। साथ ही जो सामुदायिक शौचालय अधूरे है, उन्हें शीघ्रता से पूरा करवाएं। उन्हांेने ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन के तहत जीपीडीपी में कार्यों का इन्द्राज करने के बाद स्वीकृति जारी करे तथा स्वीकृत कार्यों का निर्माण शीघ्र प्रारंभ करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि जिन शौचायलों का भुगतान आॅफलाईन किया गया था, उनका इन्द्राज जन सूचना पोर्टल पर करवाया जाए। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना की ब्लाॅकवार समीक्षा की और निर्देश दिए कि योजना के तहत जो अपात्र है,उन्हें रिमाण्ड मोड्यूल पर अपलोड किया जाए। इसके लिए उन्होंने सख्त निर्देश दिए यह कार्य आगामी तीन दिन में पूरा हो जाना चाहिए। साथ ही जो अपूर्ण आवास है, उनका निर्माण कार्य 31 मार्च तक पूर्ण करवाकर जीयो टेग किया जाए। वीसी में जिला परिषद के मुख्यकार्य अधिकारी ओम प्रकाश, मनरेगा के अधिशाषी अभियन्ता यशपाल पूनिया, अधिशाषी अभियन्ता मनीष पूनिया, जिला परिषद के अधिशाषी अभियन्ता धीरसिंह गोदारा, जिला परियोजना समन्वयक स्वच्छ भारत मिशन शामिल थे, जबकि सभी विकास अधिकारी अपने मुख्यालय से वीसी से जुडे़।

COMMENTS