रोगियों को मिलने वाली सुविधाओं में हो गुणात्मक सुधार- गौतम

रोगियों को मिलने वाली सुविधाओं में हो गुणात्मक सुधार- गौतम bikaner news रोगियों को मिलने वाली सुविधाओं में हो गुणात्मक सुधार- गौतम vaternary 1

बीकानेर,  सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज से संबद्ध पीबीएम अस्पताल में अब साफ-सफाई सहित अन्य कार्य धरातल पर दिखने लगे हैं। जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम द्वारा गठित टीम के लगातार निरीक्षण, भ्रमण और अस्पताल प्रशासन को समय-समय पर उपलब्ध करवाई गई प्रशासनिक सहायता के द्वारा विभिन्न लंबित कार्य भी शुरू हुए हैं। इसके चलते अस्पताल में आने वाले रोगियों और उनके परिजनों को मिलने वाली सुविधाओं में गुणात्मक सुधार आया है, साथ ही और अधिक सुविधाएं विकसित किए जाने के लिए भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी एवं आयुक्त नगर निगम डॉ प्रदीप के गवांडे, आईएएस अभिषेक सुराना और कोषाधिकारी पवन कस्वाँ द्वारा लगातार समीक्षा कर कॉलेज के प्राचार्य और अस्पताल अधीक्षक के साथ बैठक आयोजित की जा रही है और अस्पलाल में निर्माण कार्य सहित अन्य कार्य करने पर भी विचार-विमर्श कर त्वरित निर्णय लिए जा रहे हैं।
मंगलवार को जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम अपने कक्ष में इस संबंध में अब तक हुई कार्यवाही की समीक्षा की और सभी अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा की पीबीएम अस्पताल परिसर में बने जिरियाट्रिक हॉस्पिटल भवन का अभी उपयोग नहीं हो रहा है, ऐसे में गुरुवार से इस परिसर में मेडिसन यूनिट शिफ्ट कर दिया जाए, ताकि मेडिसन यूनिट में आने वाले रोगियों को सुविधा हो सके। उन्होंने प्राचार्य और अधीक्षक से कहा कि अस्पताल में साफ-सफाई और बेहतर हो, इसके लिए संबंधित कार्यकारी एजेंसी को पाबंद किया जाए कि वह अस्पताल परिसर में प्रभावी सफाई व्यवस्था करें,  विशेषकर टॉयलेट तथा जहां रोगियों के परिजन बैठते हैं वहां साफ सफाई की विशेष व्यवस्था की जाए। इसके साथ ही लोगों को समझाइश भी करें कि गंदगी ना फैलाएं और कचरा पात्र में ही कचरा डालें, इसके लिए आवश्यकतानुसार कचरा पात्र रखे जाएं।
जिला कलक्टर ने कहा कि पीबीएम अस्पताल परिसर के समस्त ड्रेनेज सिस्टम को ठीक किया जाए। इसके लिए आयुक्त नगर निगम और अधीक्षक पीबीएम दोनों संयुक्त रूप से भ्रमण कर उन स्थानों को चिन्हित कर लें, जहां सीवरेज सिस्टम में ब्लॉकेज हैं, ताकि उन्हें ठीक कर गंदे पानी की निकासी की सुचारू व्यवस्था की जा सके और ड्रेनेज सिस्टम बंद होने के कारण फैलने वाली गंदगी का स्थाई समाधान हो सके। उन्होंने प्राचार्य मेडिकल कॉलेज और अधीक्षक पीबीएम अस्पताल को निर्देश दिए कि वह एक टोल फ्री नंबर भी विकसित करें, ताकि आम व्यक्ति फोन कर अस्पताल में उनको होने वाली असुविधाओं की शिकायत कर सके और अस्पताल की व्यवस्था को बेहतर बनाने के सुझाव भी दे सके।
जनाना अस्पताल में लिफ्ट के लिए भामाशाह से लिया जाएगा सहयोग
जिला कलक्टर ने कहा कि अस्पताल परिसर में नए जनाना अस्पताल में मरीजों को स्थानांतरित करने से पूर्व इस भवन में ऑक्सीजन की पाइप लाइन और लिफ्ट की जरूरत को देखते हुए दोनों ही कार्य प्राथमिकता के साथ पूर्ण कर लिए जाएं। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन पाइप लाइन का कार्य अगले 2 दिनों में पूर्ण कर लिया जाएगा। वहीं लिफ्ट लगाने के लिए स्थानीय भामाशाहों से संपर्क कर लिफ्ट लगाई जाएगी। उन्होंने कहा कि अस्पताल परिसर के मुख्य स्थानों पर साईनेज बोर्ड लगाए जाएं, जिसमें अस्पताल के विभिन्न विभागों की ओर जाने वाले रास्ते तथा मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना के काउण्टर आदि के बारे में बड़े और स्पष्ट शब्दों में लिखा हो, जिससे बाहर से आने वाले रोगियों और उनके परिजनों के अनावश्यक रूप से इधर-उधर भटकना न पड़े।
समीक्षा बैठक में नगर निगम आयुक्त डाॅ.प्रदीप के गवांडे, प्रशिक्षु आई.ए.एस.अभिषेक सुराणा, सरदार पटेल मेडिकल काॅलेज प्राचार्य डाॅ.एच.एस.कुमार, पीबीएम अस्पताल अधीक्षक डाॅ. पी.के.बैरवाल, कोषाधिकारी पवन कस्वां उपस्थित रहे।

COMMENTS

WORDPRESS: 0