बीकानेर

राजस्थान की सबसे बड़ी और ऐतिहासिक होगी बीकानेर में निकलने वाली धर्मयात्रा

बीकानेर, 31 मार्च। हिन्दू जागरण मंच के प्रांत संयोजक जेठानंद व्यास ने गुरुवार को कहा कि हिन्दू पंचांग के अनुसार नवसंवत्सर के मौके पर 2 अप्रेल को बीकानेर संभाग मुख्यालय पर निकलने वाली धर्मयात्रा राजस्थान की सबसे बड़ी और ऐतिहासिक होगी। स्टेशन रोड़ स्थित होटल वृंदावन रीजेंसी में पत्रकारों से बातचीत करते हुए व्यास ने कहा कि मंच द्वारा सभी हिन्दूओं से अपील की गयी है कि वे अपने शस्त्रों को पूजा के स्थान पर ही रखें और जब देश, समाज और धर्म को आवश्यकता होगी तभी इसका उपयोग करें। हिन्दू तिथि अनुसार चैत्र शुक्ल पक्ष एकम यानि चैत्र नवरात्रा प्रारंभ के लिए नववर्ष शनिवार को लग रहा है और इस महत्वपूर्ण दिन एक भव्य और अतिदिव्य धर्मयात्रा निकाली जा रही है उसमें शस्त्र नहीं लाएं और किसी अन्य को गाली नहीं दें। सिर्फ और सिर्फ धर्मयात्रा में हिन्दूओं को जगाने के लिए, हिन्दू जनजागृति के लिए निकाली जा रही है, इसमें अधिक से अधिक शामिल हों और धर्मयात्रा को सफल बनाने में अपना योगदान दें। इस अवसर पर महानगर संयोजक अंकित भारद्वाज, मुकेश भादाणी, रुपेश आहूजा, जगवीर शर्मा, एडवोकेट शैलेष गुप्ता, सुरेंद्र कुमार व्यास सहित अनेक की मौजूदगी में जेठानंद व्यास यह भी बोले कि विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 की वजह से पिछले दो वर्षों से यह धर्मयात्रा नहीं निकाली गयी लेकिन इस बार निकाली जाने वाली धर्मयात्रा में लोग स्वत: ही जुड़ रहे हैं और ऐतिहासिक बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगे। उन्होंने बार-बार यही दोहराया कि हिन्दू जागरण मंच का उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ यही मात्र है कि हिन्दूओं अब जाग जाओ हालांकि उन्होंने माना कि सोशल मीडिया पर धर्मयात्रा, महाआरती का जमकर प्रचार-प्रसार हो चुका है और लोग आगे से आगे धर्मयात्रा में जुडऩे का आह्वान अपने आप ही कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि शहरभर में लगभग हर गली, मोहल्लों में लोग स्वत: ही घरों पर झण्डे, बैनर लगा रहे हैं और बड़ी संख्या में यात्रा का निमंत्रण एक-दूसरे को दे रहे हैं।

मंच पर ये संत भाग लेंगे महाआरती में…

जूनागढ़ किले के सामने महाआरती में श्रीधरजी महाराज, शिवबाड़ी मठ के विमर्शानंद महाराज, श्री नवलेश्वर मठ के संत योगी विलासनाथ सहित नारायणराम चौधरी महाआरती करेंगे और अपना-अपना सम्बोधन देंगे। जेठानंद व्यास ने हिन्दूओं से अपील यह भी की है कि शनिवार को सूर्योदय के साथ ही हिन्दू नववर्ष की शुरुआत हो जाएगी, प्रत्येक हिन्दू अपने घर के आगे रंगोली सजाए और घर के ऊपर भगवा झण्डा लगाएं इसके अलावा हो सके तो रंग-बिरंगी रोशनी से घर को सजाएं भी।

धर्मयात्रा का यह रहेगा रुट….

धर्मयात्रा शनिवार को दोपहर तीन बजे एम.एम.ग्राऊण्ड से रवाना होकर पुष्करणा ग्राऊण्ड, गोकुल सर्किल, नत्थूसर गेट, बारहगुवाड़ चौक, रत्ताणी व्यासों का चौक, हर्षों का चौक, मोहता चौक, तेलीवाड़ा, दाऊजी रोड़, जोशीवाड़ा, शहर का ह्दयस्थल कोटगेट, महात्मा गांधी रोड़, शार्दूल सिंह सर्किल होते हुए शाम सात बजे जूनागढ़ पहुंचेगी और महाआरती का आयोजन यहीं किया जाएगा।

What's your reaction?