देशविदेश

यूक्रेन में फंसे भारतीयों की वतन वापसी; देर रात दिल्ली एयरपोर्ट लैंड करेगी फ्लाइट

यूक्रेन पर हुए रूसी हमले के बाद वहां पर भारी संख्या में भारतीय नागरिक फंस गए हैं. इनमें सबसे बड़ी संख्या स्टूडेंट्स की है. इन सभी लोगों को यूक्रेन से निकालने के लिए अब सरकार ने जोर-शोर से कोशिशें शुरू कर दी हैं. इन लोगों को पहले जमीन के रास्ते यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजा जाएगा. फिर वहां से एयर इंडिया की विशेष उड़ानों से इनको भारत वापस लाया जाएगा. इस तरह की पहली निकासी उड़ानें आज रोमानिया और हंगरी भेजी गईं. यूक्रेन की सीमाओं से जमीनी रास्ते के माध्यम से अपने नागरिकों को निकालने के लिए भारत ने हंगरी, पोलैंड, स्लोवाक गणराज्य और रोमानिया के साथ बात की है.

यूक्रेन में फंसे भारतीय लोगों को वापस लाने के लिए दिल्ली से बुखारेस्ट रवाना हुआ एयर इंडिया का विमान संभवत: रविवार रात को 1.50 am पर दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचेगा. इसी तरह दूसरी फ्लाइट आज शाम करीब 4.15 बजे दिल्ली एयरपोर्ट से रवाना होगी. जो रविवार को सुबह 7.40 am पर दिल्ली वापस पहुंचेगी. सूत्रों के मुताबिक आज दिल्ली में यूक्रेन से आने वाली विमान के पहुंचने की संभावना बेहद कम है. कल दिल्ली पहुंचने वाले वाली दोनों विमानों में तकरीबन 490 यात्रियों को दिल्ली लाया जाएगा. इनमें से ज्यादातर छात्र हैं. जबकि सूत्रों ने बताया कि एयर इंडिया की एक फ्लाइट रोमानिया के बुखारेस्ट में उतर चुकी है.

मुंबई हवाई अड्डे पर सभी तैयारियां पूरी
यूक्रेन से आने वाले भारतीयों के लिए मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा पर सभी जरूरी तैयारियों को पूरा किया जा रहा है. जिससे यूक्रेन से लौटने वाले युवा भारतीय छात्रों को सुगमता से उनके घरों को भेजा जा सके. यूक्रेन में फंसे भारतीयों को लेकर आज एयर इंडिया की AI1944 उड़ान मुंबई पहुंच रही है. सरकार के तय दिशा-निर्देशों के अनुसार हवाई अड्डे पर हवाई अड्डा स्वास्थ्य संगठन (APHO) की टीम यात्रियों के स्वास्थ्य की जांच करेगी. यात्रियों को कोविड-19 टीकाकरण प्रमाण पत्र या निगेटिव आरटी-पीसीआर (RT-PCR) रिपोर्ट दिखानी होगी. यदि किसी के पास दोनों में से कोई भी नहीं होगा, तो हवाई अड्डे पर ही उसका आरटी-पीसीआर टेस्ट होगा. इसका खर्च एयरपोर्ट उठाएगा. यदि किसी यात्री का कोविड टेस्ट पॉजिटिव पाया गया तो निर्धारित कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार उसका इलाज होगा. इसके अलावा यूक्रेन से सीएसएमआईए हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले छात्रों के बैठने के लिए एक विशेष क्षेत्र तय किया गया है. उन्हें यहां मुफ्त वाईफाई, भोजन और पानी की बोतलें भी दी जाएंगी. उन सभी को हर जरूरी मदद मिलेगी.

What's your reaction?