राजस्व अधिकारी पीड़ित पक्ष को राहत प्रदान करे-जिला कलेक्टर

4 Min Read

बीकानेर। जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने बुधवार को  कोविड वैक्सीनेशन, चीरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना, कोविड संक्रमण, अवैद्य खनन, राजस्व कार्यों एवं ग्राम विकास व पंचायतीराज विभाग एवं नगरीय विकास के कार्यों के कार्याें की वीडियो कान्फ्रेंस के द्वारा समीक्षा की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।
वीडियो कॉन्फेंसिंग से जिले के उपखण्ड अधिकारी, तहसीलदार, विकास अधिकारी, ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी सहित अन्य विभागों के अधिकारी जुडे़। जिला कलक्टर कलाल ने इस दौरान राजस्व विभाग की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि विभाग द्वारा दिए गए लक्ष्यों की समय पर प्राप्ति करें। प्रशासन गांवों के संग अभियान के दौरान भूमि आवंटन जो प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं, अगर उनमें कोई कमियां है, तो उसे पूरा करवाते हुए जिला प्रशासन को भिजवाए। जो प्रस्ताव भूमि आवंटन योग्य नहीं है, उन्हें अस्वीकार करते हुए जिला प्रशासन को प्रेषित किया जाए। उन्होंने कहा कि सरकारी कार्यालय, उद्योगों के लिए भूमि आरक्षित की जानी है, उनकी सूची भेजी जाए। उन्होंने सभी उपखण्ड क्षेत्र में लैण्ड बैंक तैयार करने के भी निर्देश दिए।

उन्होंने विधानसभा के पेण्डिग प्रश्नों का सही जवाब तुरंत प्रभाव से भिजवाने के भी निर्देश उपखण्ड व तहसीलदारों को दिए। उन्होंने जिला प्रशासन को प्राप्त परिवेदनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि जो प्रकरण आपको को भेजे गए है, उन पर साहनुभूतिपूर्वक विचार कर, पीड़ित पक्ष को राहत प्रदान करें।
जिला कलक्टर ने वर्ष 1970 के गैर खातेदारी के प्रकरणों की राजस्व अधिकारियों से जानकारी ली और ऐसे प्रकरणों में खातेदारी देकर, निस्तारण करने के निर्देश दिए। जो प्रकरण निस्तारण योग्य नहीं है, उसे खारिज किया जाए। उन्होंने स्मॉल पेज एवं मीडियम पेज भूमि आवंटन के बारे मंे फीडबैक लिया और निर्देश दिए कि तुरन्त प्रभाव से संबंधित काश्तकारों को यह भूमि आवंटित की जाए। इससे सरकार को आय होगी और जिसका हक है, उसे राहत मिलेगी।

जिला कलक्टर ने मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से जोड़ने के लिए एक विशेष अभियान का संचालन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इस योजना के माध्यम से नागरिकों को यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज का लाभ प्राप्त होगा। जिससे कि बीमार होने की स्थिति में उनको अस्पताल में इलाज प्राप्त हो सकेगा।
इस योजना के सफल संचालन के लिए जिले उपखण्ड अधिकारियों को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। अतः सभी नोडल अधिकारी आशा सहयोगिनी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, एएनएम, पंचायत कर्मी जो कार्यरत है, उनके माध्यम से यह प्रचारित किया जाए कि यह योजना आमजन के लिए कितनी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि इन कर्मचारियों से सभी वंचित नागरिकों का चिन्हित करवाए। चिन्हित करने के पश्चात सभी पात्र परिवारों को नजदीकी मित्र पर रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। उन्होंने कहा कि वंचित परिवारों का ग्राम पंचायतवार रजिस्ट्रर संधारित हो। ई-मित्र केन्द्र पर कैम्प आयोजित कर, वंचित परिवारों को इस योजना से जोड़ा जाए। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ ले चुका है, उन्हें अनुभव को सोसल मीडिया पर प्रसारित किया जाए। उन्होंने इस दौरान ग्रामीण विकास की विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। वीसी में अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) बलदेवराम धोजक, मुख्यकार्यकारी अधिकारी जिला परिषद नित्या के., जिला रसद अधिकारी भागुराम मेहला, उप निदेशक सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग एल.डी.पंवार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Share This Article