बीकानेर

बच्चों का सुरक्षित आवागमन सामूहिक जिम्मेदारी, लापरवाही नहीं होगी बर्दाश्त -संभागीय आयुक्त

बीकानेर। संभागीय आयुक्त डॉ. नीरज के. पवन ने कहा कि बच्चों का स्कूलों तक सुरक्षित आवागमन स्कूल प्रबंधन, अभिभावकों और जिला प्रशासन की सामूहिक जिम्मेदारी है। बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी एजेंसियां समन्वय रखते हुए नियमों की अनुपालना करवाएं।
संभागीय आयुक्त ने मंगलवार को मेडिकल कॉलेज सभागार में आयोजित बाल वाहिनी योजना की बैठक में ये निर्देश दिए। उन्होंने बाल वाहिनी योजना के निर्देशों की अनुपालना और समस्त व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के लिए 1 अगस्त तक का समय दिया देते हुए कहा कि इसके बाद  अभियान चलाकर नियमों की अवहेलना करने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा।  संभागीय आयुक्त डॉ. नीरज के. पवन ने कहा कि स्कूल प्रबंधन यह सुनिश्चित करेंगे कि बसों पर अनिवार्य रूप से स्कूल बस, आन स्कूल ड्यूटी, बस, ड्राइवर का नाम पता, लाइसेंस नंबर लिखा हो।
संभागीय आयुक्त ने कहा कि सभी बसों वैन, कैब के ड्राइवर व कंडक्टर आवश्यक रूप से वर्दी में रहेंगे। बसों में  निर्धारित सीमा से अधिक बच्चों का परिवहन किसी भी परिस्थिति में नहीं होगा। स्कूलों की जिम्मेदारी केवल स्कूल परिसर तक ही सीमित नहीं है, बल्कि सुरक्षित वातावरण में  सुविधाजनक तरीके से बच्चों को आवागमन हो यह भी सुनिश्चित किया जाए

ड्राइवर का होगा मेडिकल चेकअप
संभागीय आयुक्त ने कहा कि जिला प्रशासन की ओर से स्कूलों में लगे सभी ड्राइवरों का मेडिकल चेकअप करवाने के लिए शिविर आयोजित किए जाएंगे। साथ ही वाहनों पर अनिवार्य रूप से जीपीएस लगें तथा उनका नियंत्रण स्कूल द्वारा किया जाए, संभागीय आयुक्त में इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी को समस्त कार्यवाही सुनिश्चित करवाने के निर्देश दिए।

ड्राइवरों का पुलिस सत्यापन करवाया जाएगा
संभागीय आयुक्त ने कहा कि स्कूल प्रबंधन अपने अपने यहां नियोजित ड्राइवरों की सूची पुलिस को उपलब्ध करवाएं। पुलिस द्वारा इन सभी ड्राइवरों का सत्यापन करवाया जाएगा। सभी स्कूल नियोजित बसों को अनुबंध पत्र अनिवार्य रूप से देंगे। उन्होंने कहा कि बसों पर स्पीड गवर्नर भी लगाए जाएं। संभागीय आयुक्त ने कहा कि नियमों की गंभीरता और सख्ती से अनुपालना करवाई जाएगी। यदि स्कूलों में 18 वर्ष से कम आयु के बच्चे गियर्ड वाहन से आते हुए पाए गए तो संबंधित विद्यालय की जवाबदेही तय होगी। स्कूल यह सुनिश्चित करें तथा अभिभावकों के साथ होने वाली मीटिंग में स्पष्ट रूप से इसके लिए मना किया जाए।

हाईवे पर खड़े नहीं होंगे वाहन
संभागीय आयुक्त ने कहा कि जो स्कूल हाईवे पर स्थित हैं उनके वाहन हाईवे पर खड़े नहीं होंगे। स्कूल इसकी जिम्मेदारी तय करें, अन्यथा संबंधित के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जाएगी।
जयपुर हाईवे पर स्थित स्कूलों में छुट्टी के बाद लगने वाले जाम की स्थिति से बचने के लिए संभागीय आयुक्त ने यहां के तीनों स्कूलों को छुट्टी के समय में आधे-आधे घंटे का अंतराल करने के निर्देश दिए।
जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद ने कहा कि बच्चों की सुरक्षा सबसे बड़ी प्राथमिकता है। इस संदर्भ में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। निर्धारित सीमा से अधिक बच्चों का परिवहन पाए जाने पर संबंधित के विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी। स्कूल परिसर के अंदर ही बच्चों को चढ़ाए और उतार जाने उतारे जाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

जिले के शहीदों को दी जाएगी  विजय दिवस पर श्रद्धांजलि
संभागीय आयुक्त डॉ. नीरज के पवन ने बताया कि देश की रक्षा में अपनी जान न्योछावर करने वाले जिले के 19 शहीदों को विजय दिवस 26 जुलाई के अवसर पर जिले के समस्त स्कूलों में एक कार्यक्रम आयोजित  कर श्रद्धांजलि दी जाएगी। इसके लिए उन्होंने जिला सैनिक कल्याण अधिकारी को शहीदों के पोस्टर तैयार करवाने के निर्देश दिए। इस अवसर पर हर घर तिरंगा हर मन तिरंगा विषय पर भी चर्चा होगी।
जिला कलेक्टर ने कहा कि 13 से 15 अगस्त तक आयोजित होने वाले हर घर तिरंगा हर मन तिरंगा कार्यक्रम में स्कूल अपनी सक्रिय भागीदारी निभाएं। स्कूली शिक्षा के दौरान विद्यार्थियों में राष्ट्रप्रेम की भावना की शुरुआत होती है। बच्चों के माध्यम से  राष्ट्र प्रेम का संदेश घर-घर तक पहुंचाने के लिए स्कूल प्रबंधन भागीदारी निभाएं।

बालिकाएं सीखेंगी आत्मरक्षा के गुर
संभागीय आयुक्त ने बताया कि डॉ. करणी सिंह स्टेडियम में 1  से 11 अगस्त तक बालिकाओं को  जिला प्रशासन की ओर से निशुल्क आत्मरक्षा प्रशिक्षण दिलवाया जाएगा। इस प्रशिक्षण में कक्षा 9 से 12वीं तक की छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जाएंगे। उन्होंने इस प्रशिक्षण में विभिन्न स्कूलों से बालिकाओं को भेजने के निर्देश दिए।
इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमित कुमार ,अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) ओम प्रकाश, अतिरिक्त जिला कलक्टर( शहर) पंकज शर्मा, एआरटीओ जुगल माथुर, एडीईओ सुनील बोड़ा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

What's your reaction?