सोलन हादसा: होटल की इमारत गिरने से 6 जवान समेत सात लोगों की मौत, सर्च ऑपरेशन जारी

सोलन हादसा: होटल की इमारत गिरने से 6 जवान समेत सात लोगों की मौत, सर्च ऑपरेशन जारी  सोलन हादसा: होटल की इमारत गिरने से 6 जवान समेत सात लोगों की मौत, सर्च ऑपरेशन जारी building collapse in solan 1563160671

हिमाचल प्रदेश के सोलन के कुमारहट्टी-नाहन हाइवे के किनारे बने एक ढाबा और गेस्ट हाउस की इमारत जमींदोज हो गई। इस बिल्डिंग के नीचे कई लोग दब गए। इस हादसे में छह सेना के जवान और एक नागरिक समेत सात लोगों की मौत हो गई है और सर्च ऑपरेशन जारी है। बताया जा रहा है कि जान गंवाने वालों में एक महिला भी है जो होटल मालिक की पत्नी थी।

सोलन के डिप्टी कमिश्नर केसी चाम ने कहा कि हादसे के बाद 17 जवानों और 11 नागरिकों को निकाल लिया गया है। हादसे में छह सेना के जवानों और एक नागरिक की मौत हो गई है। सात सेना के जवानों के अभी भी दबे होने की आशंका है। उन्होंने कहा कि आज दोपहर तक सर्च ऑपरेशन पूरा हो जाएगा।

– मलबे के नीचे दबे 23 लोगों को बचा लिया गया है। इसमें 17 सेना के जवान भी शामिल हैं। अभी मलबे मे सेना के सात जवान फंसे हुए हैं।

– होटल के जमींदोज होने की खबर मिलते ही सेना, पुलिस और एनडीआरएफ की टीम ने बचाव कार्य शुरू कर दिया गया। जब ये हादसा हुआ तब वहां जोर की बारिश भी हो रही थी। पंचकूला से एनडीआरएफ की टीम ने मौके पर पहुंच कर राहत और बचाव का काम शुरू किया।

– जिस समय हादसा हुआ वहां सेना के 30 जवान सहज तंदूर ढाबा में खाना खाने के लिए रुके हुए थे। होटल बिल्डिंग के आधार तल पर एक ढाबा था जिसमें खाना खाने के लिए सेना के जवान रुके थे। इसी दौरान वे लोग हादसे का शिकार हो गए। अभी तक इमारत के गिरने की वजह का पता नहीं चला है।

– ये होटल नाहन हाईवे के पास स्थित है। होटल सड़क के किनारे बना है। दूसरी तरफ ढलान है। जानकारी मिलते ही सोलन के एसडीएम रोहित राठौर सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए। सात घायलों को नजदीकी अस्पताल धर्मपुर लाया गया है जहां इनका उपचार किया जा रहा है। परवाणु और सोलन से सात एंबुलेंस को मौके के लिए रवाना कर दिया गया है।

– हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि कुमारहट्टी में एक निजी होटल ढहने की दुखद सूचना मिली है। इसमें कई लोगों के दबे होने की आशंका है। राहत कार्य में एनडीआरएफ की टीम सहित स्थानीय प्रशासन जुटा हैं। लोगों को सुरक्षित बचाने के हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं।

COMMENTS

WORDPRESS: 0