‘अग्निपथ’ के विरोध में प्रदर्शन की वजह से थमी ट्रेनों की रफ्तार, रेलवे ने 369 ट्रेनों को किया रद्द

2 Min Read
केंद्र सरकार की ओर से देश की तीनों सेनाओं में भर्ती के लिए लाई गई ‘अग्निपथ योजना’ का विरोध शनिवार को भी नहीं थमा। बिहार में आज बंद बुलाया गया है तो पंजाब के लुधियाना में उपद्रवियों ने स्टेशन पर तोड़फोड़ की। वहीं, रेलवे ने भी आंदोलन को देखते हुए शनिवार को 369 ट्रेनों को रद्द कर दी। इनमें 210 मेल और एक्सप्रेस और 159 लोकल पैसेंजर ट्रेनें शामिल हैं।

अधिकारियों ने कहा कि रेलवे ने दो और मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों को भी आंशिक रूप से रद्द कर दिया है, इस प्रकार दिन के दौरान प्रभावित होने वाली ट्रेनों की कुल संख्या 371 पहुंच गई है। सरकार ने मंगलवार को अग्निपथ योजना का ऐलान करते हुए कहा था कि सेवा में साढ़े 17 से 21 वर्ष की आयु के युवाओं को चार साल के कार्यकाल के लिए शामिल किया जाएगा, जबकि उनमें से 25 प्रतिशत युवाओं को नियमित सेवा के लिए बरकरार रखा जाएगा।

योजना के ऐलान के बाद से शुरू है विरोध-प्रदर्शन

योजना के ऐलान के बाद से ही यूपी, बिहार समेत देश के अन्य हिस्सों में प्रदर्शन शुरू हो गया था। देखते-देखते यह प्रदर्शन हिंसक हो गया और युवाओं ने कई ट्रेनों में आग लगी दी और स्टेसन पर तोड़फोड़ की। ट्रेन सेवाओं के बाधित होने और संपत्ति को नुकसान पहुंचाए जाने के मद्देनजर रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शनिवार को कहा कि सरकार रेलवे की संपत्ति की रक्षा के लिए रेलवे अधिनियम को और मजबूत करने की दिशा में काम करेगी।

Share This Article