बीकानेर

धरना स्थल पर प्रदेश के संतों का समागम 4 फरवरी को

बीकानेर । गोचर , ओरण व चारागाह की जमीन पर कब्ज़ों को नियमन करने के राज्य सरकार के फैसले के बाद से बीकानेर में पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी का शरह नथानियान गोचर भूमि में चल रहा बेमियादी धरने में पूरे प्रदेश से ग्रामीण व शहरी जनता आकर भाटी के धरने को अपना मुखर समर्थन दे रही है । धरने पर साधु – संतों का आकर समर्थन देने का सिलसिला जारी है 4 फरवरी को प्रदेश भर से साधु – संत व गांग्रेमी भाटी के धरने पर पहुंचेगे ।

बुधवार को स्वामी अजरानंद भारती जी महाराज ने धरना स्थल पर आकर भाटी को विजय का आशीर्वाद दिया । धरना स्थल पर भजन कीर्तन व धार्मिक अनुष्ठान के कार्य निर्वाध रूप से चल रहे है । गोचर भूमि से प्रत्येक शाम को मुरलीधर कॉलोनी के निवासी गो रक्षा हेतु जन जागृति लाने के लिए संध्या परिक्रमा हो रही है । धरना स्थल पर विभिन्न समाजों व संगठनों के पदाधिकारियों का आकर भाटी को अपना मुखर समर्थन कर रहे है । सुनारों की बड़ी गुवाड़ से केशव सोनी , तारा बाई , गीता बाई व गीताप्रेस प्रचारक प्रभु महाराज ने गीता के 18 अध्यायों का पाठ किया ।

गीता पाठ का वाचन करने आये बच्चों , महिलाओं व पुरूषों का अंशुमानसिंह भाटी , समाजसेवी देवकिशन चांडक , मोहनसिंह नाल , भोमराज जाट ने अभिनन्दन किया ।

भाटी के प्रवक्ता सुनील बांठिया ने बताया कि 4 फरवरी वार शुक्रवार को राजस्थान गो सेवा समिति के प्रदेशाध्यक्ष श्री दिनेशगिरी जी महाराज के सानिध्य में श्री बुध गिरी मही प्रागण फतेहपुर , श्री रघुनाथ भारती महाराज बाड़मेर , गोविन्द जी महाराज श्रीपतिधाम नन्दन वन सिरोही , श्री गोविन्दराम जी शास्त्री खेड़ापा जोधपुर , श्रीरामदास जी महाराज देवरी मठ जोधपुर से सैकड़ों वाहनों के काफिले के साथ गोचर आन्दोलन को अपना समर्थन देने शरह नथानिया गोचर भूमि पर पहुंचेंगे । इन संतों के स्वागत की तैयारियां गो प्रेमी अपने स्तर पर कर रहे है । आज धरना स्थल पर अजरानंद भारती जी महाराज श्रीहनुमान कुटिया कानासर फांटा ने गोप्रेमी सज्जनों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राजस्थान में देवी सिंह भाटी ही एकमात्र ऐसे नेता है जो गाय , गोचर , औरण व चारागाह की न सिर्फ बात करते है वरन । इन पर जब – जब भी संकट आया है खुलकर सरकार से दो दो हाथ भी किये हैं । राजस्थान के अन्य नेताओं को भी भाटी से प्रेरणा लेकर गो हित के मुद्दे को जोर शोर से उठाने चाहिए व सरकार को अपना निर्णय वापिस पलटने के लिए बाध्य करें ।

धरना स्थल पर राजस्थान पेन्शनर समाज बीकानेर के ओमप्रकाश जोशी के नेतृत्व में अनवर उस्ता , कालुराम भाटी , अब्दुल अजीज , ओमप्रकाश , सत्यनारायण व्यास , महावीर आचार्य , जिकर कादरी ने धरना स्थल पर आकर भाटी से कहा कि बीकानेर का पेन्शनर समाज इस आन्दोलन में तन – मन – धन से साथ खड़ा हैं । अखिल भारतीय हित रक्षा श्रमिक समिति के गोपाल सिंह राजपुरोहित ने अपनी कार्यकारिणी सदस्यों के साथ आकर धरने को समर्थन दिया ।

शरह नथानिया गोचर भूमि में चल रहे धरने के समर्थन में मुरलीधर व्यास नगर व आस – पास की कॉलोनियों के निवासी पिछले एक सप्ताह से जन जागरण हेतु संध्या परिक्रमा आयोजन कर रहे है । इस संध्या परिक्रमा में गो माता के जयकार के नारे लगा रहे हैं । ये यात्रा कॉलोनी के विभिन्न सैक्टर व आस – पास की कॉलोनियों की परिक्रमा करती हैं ।

धरना स्थल पर भजन कीर्तन का दौर अनवरत् रूप से जारी है आज बीकानेर के कैलाश आचार्य , पृथ्वीसिंह पंवार सहित अनेक महिलाओं ने भजनों की प्रस्तुतियां देकर वातावरण को भक्ति मय बना दिया । आज ग्रामीण क्षेत्रों से कोलायत , खाजूवाला , नोखा , लुनकरनसर , डूंगरगढ़ , बाप व फलोदी से ग्रामीणों का हुजुम धरना स्थल पर उमड़ पड़ा । धरना स्थल पर आने वाले प्रमुख रूप से बाप , फलोदी से बच्चनसिंह भाटी शेखासर , मूल सिंह भाटी , खुसाल सुथार , नरपत माली , जगदीश मेघवाल , ललित भार्गव , श्रवण लोहार अपने पूरे लवाजमें के साथ धरना स्थल पर पहुंचकर भाटी को समर्थन दिया । छैलुसिंह , पूर्व पंचायत समिति सदस्य डूंगरसिंह नया गांव , रविन्द्रसिंह भाटी ” रब्बु बन्ना ” हाडलां , नारायण सिंह चानी , रामदयाल , हनुमानाराम नाई , भंवरसिंह गहलोत , देहात कांग्रेस उपाध्यक्ष नित्यानंद पारीक , सेवादल के प्रदेश सचिव नृसिंह दास व्यास , राधेश्याम सारस्वत , अपने कार्यकर्ताओं के साथ भाटी को समर्थन दिया । पंचारिया समाज के पूर्व उपाध्यक्ष बढी महाराज , नारायणसिंह राठौड़ गोकुल , मेघराज पंचारिया मियाकौर , शिव पाणेचा आम्बासर , भंवरदास स्वामी दंतौर , आसुराम सुथार बीठनोक , हेतराम गौड़ , जगदीश जाजड़ा बीठनोक सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने अपना समर्थन दिया ।

What's your reaction?