कोरोना की जांच के लिए अब नहीं होगी इधर उधर भटकने की जरूरत , पढे खबर

कोरोना की जांच के लिए अब नहीं होगी इधर उधर भटकने की जरूरत , पढे खबर  कोरोना की जांच के लिए अब नहीं होगी इधर उधर भटकने की जरूरत , पढे खबर dfgdsu

राजस्थान में कोरोना की जांच रिपोर्ट के लिए अब लोगों को इधर उधर भटकने की जरूरत नहीं है. कोरोना की जांच के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट करवाने वाले अधिकांश लोगों को अब मैनेज के जरिए कोरोना रिपोर्ट मिलना शुरू हो गई है. पिछले 20 दिन की बात की जाए तो करीब साढ़े पांच लाख लोगों को ऑनलाइन सिस्टम के जरिए मैसेज से रिपोर्ट भेजी गई है.

कोरोना की जांच के लिए अब नहीं होगी इधर उधर भटकने की जरूरत , पढे खबर prachina in article 1

दरअसल, कोरोना की ऑनलाइन मॉनिटरिंग के लिए केन्द्र सरकार ने आरटीपीसीआर एप तो बना दिया, लेकिन इस एप जरिए लोगों को ऑनलाइन रिपोर्ट देने का जो ऑप्शन दिया गया वो पिछले लम्बे समय से काम नहीं कर रहा था. कोरोना के बढ़ते प्रकोप के ज़ी मीडिया ने लोगों की इस दिक्कत को प्रमुखता से उठाया तो चिकित्सा विभाग ने प्रसंज्ञान लेते हुए राजस्थान कोविड 19 पोर्टल लांच किया. इस पोर्टल 16 सितम्बर से ट्रायल बेस पर शुरू किया गया, जिसके सकारात्मक परिणाम अब सामने आने लगे हैं. अभी तक जिन लोगों को कोरोना की रिपोर्ट के लिए इधर, उधर भटकना पड़ता था, उन्हें सीधे मोबाइल पर मैसेज के जरिए रिपोर्ट मिलना शुरू हो गई है.

– अभी तक सिर्फ एसएसएस में सैम्पल देने पर ही मिलती है ऑनलाइन रिपोर्ट
-CMHO दफ्तर या सीएचसी पर सैम्पल देने वाले लोगों को काटते पड़ते थे चक्कर
– क्योंकि इन जगहों पर सैम्पल देने पर लोगों को मिलता तो है मोबाइल पर एक आरटीपीसीआर आईडी
– लेकिन ऑनलाइन रिपोर्टिंग की व्यवस्था नहीं होने से इस आईडी लिंक का नहीं मिल रहा था कोई फायदा
– मजबूरी में लोगों को अपनी रिपोर्ट के लिए अलग-अलग जगहों पर काटना पड़ता था चक्कर
– इस दरमियान कई केस ऐसे भी आए सामने, जो पॉजिटिव होने के बावजूद रिपोर्ट के लिए काटते रहे चक्कर
– कई लोगों को तो दो से तीन दिन तक उपलब्ध नहीं हो रही थी कोरोना की रिपोर्ट

विभाग की नई व्यवस्था से ये मिली राहत
– सीएम अशोक गहलोत और चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर कोरोना रिपोर्टिंग की सुविधा के लिए नई कवायद
– राजस्थान कोविड 19 पोर्टल किया गया है लांच
– आरटीपीसीआर एप के साथ ही इस पोर्टल पर भी दर्ज किया जाता मरीजों का डेटा
– जैसी की लैब की रिपोर्ट आती है तो वो भी एसआरएफ आईडी के जरिए केन्द्र के आरटीपीसीआर पोर्टल और राजस्थान कोविड 19 पोर्टल पर होती है दर्ज
– राजस्थान कोविड 19 पोर्टल पर रिपोर्ट दर्ज होते ही ऑटोमैटिक जनरेट होता है मरीज के मोबाइल नम्बर के लिए रिपोर्ट का मैसेज

जिन लोगों को कोरोना रिपोर्ट की हार्ड कॉपी की जरूरत है, उनके लिए भी राजस्थान कोविड 19 पोर्टल पर अलग से व्यवस्था की गई है. पोर्टल पर मरीज को सिर्फ अपनी एसआरएफ आई और रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर डालना होता है और सीधे हार्ड कॉपी आ जाती है.

 

COMMENTS