आज है होलिका दहन, जानिए कब है शुभ मुहूर्त ,आज नही करें ये काम, नही तो…

आज है होलिका दहन, जानिए कब है शुभ मुहूर्त ,आज नही करें ये काम, नही तो…  आज है होलिका दहन, जानिए कब है शुभ मुहूर्त ,आज नही करें ये काम, नही तो… holicamihrt

आज है होलिका दहन, जानिए कब है शुभ मुहूर्त ,आज नही करें ये काम, नही तो… mr bika fb post

होली (Holi) रंगों का त्योहार होता है. होली से पहले लोग इसकी तैयारिया शुरू कर देते हैं. देश भर में होली का त्योहार धूम धाम से मनाया जाता है. होली के दिन लोग एक – दूसरे को गुलाल और अबीर लगाते हैं. इस बार होली 29 मार्च 2021 को है. होली से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है. होलिका दहन बुराई पर अच्छाई के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है.

आज है होलिका दहन, जानिए कब है शुभ मुहूर्त ,आज नही करें ये काम, नही तो… prachina in article 1

इस बार की होली पर विशेष संयोग बन रहा है. जिसकी वजह से इसका महत्व बढ़ गया है. इस बार होली के दिन ध्रुव योग बन रहा है जो 499 साल बाद आता है. इस दिन चंद्रमा कन्या राशि में होगा और मकर राशि में शनि और गुरु रहेंगे. हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि को होली का त्योहार मनाया जाता है. आइए जानते हैं होलिका दहन के मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में.

होली शुभ मुहूर्त

फाल्गुन तिथि प्रारंभ 28 मार्च 2021 को दोपहर 3 बजकर 27 मिनट से लेकर 29 मार्च 2021 को 12 बजकर 17 मिनट तक रहेगा.

होलिका दहन

होलिक दहन का मुहूर्त शाम 6 बजकर 37 मिनट से रात 8 बजकर 56 मिनट तक है.

होलिका दहन की पूजा- विधि

होलिका दहन से पहले पूजा करने का विशेष महत्व है. इस दिन सुबह- सुबह उठकर पूर्व या उत्तर दिशा में बैठकर पूजा करनी चाहिए. इसके लिए गाय के गोबर से प्रहलाद और होलिका की मूर्ति बनाएं. फिर रोली, अक्षत , फूल, हल्गी, मूठ, गेहूं की बालियां, होली पर बनने वाले चावलों को अर्पित करें. इसके साथ भगवान नरसिंह की पूजा करें. पूजा करने के बाद होलिका की परिक्रमा करनी चाहिए. इस दौरान गेहूं की बालियां, चना, चावल, नारियल आदि चीजे डालनी चाहिए.

होलिका दहन का महत्व

होलिका दहन बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक में मनाया जाता है. शास्त्रों में इसके पीछे एक पौराणिक कथा भी है. पौराणिक कथा के अनुसार, हिरण्यकश्यप का बेटा प्रहलाद भगवान विष्णु का बहुत बड़ा भक्त था. हिरण्यकश्यप को यह बात बिल्कुल पसंद नहीं थी. वह प्रहलाद को तरह- तरह की यातनाएं देता था. इसके बाद उसने अपनी बहन होलिका को भगवान विष्णु की भक्ति से विमुख करने का काम दिया जिसके पास आग में नहीं जलने का वरदान था. प्रहलाद को मारने के लिए होलिका उसे अपनी गोद में लेकर बैठी गई. लेकिन फलस्वरूप प्रहलाद अग्नि में जलने से बच जाता हैं और होलिका जल जाती हैं. इसके बाद से होलिका दहन की परंपरा शुरू हो गई. मान्यता है कि होलिका दहन की अग्नि में सभी नकारात्मक चीजें जल जाती है.

होलिका दहन पर ये एक गलती कर देगी कंगाल, 7 अशुभ बातों का भी रखें ख्याल

भगवान विष्णु ने जब नरसिंह का अवतार लेकर भक्त प्रह्लाद की रक्षा की थी, तब से ही होली का त्योहार मनाने की परंपरा चली आ रही है. होली का पर्व दो दिन मनाया जाता है. पहले दिन होलिका दहन किया जाता है और दूसरे दिन रंग वाली होली खेली जाती है. इस बार होलिका दहन रविवार, 28 मार्च को किया जाएगा. ज्योतिर्विद रजत शर्मा के मुताबिक, होलिका दहन के दिन 10 काम बेहद अशुभ समझे जाते हैं.

होलिका दहन के दिन किसी को भी पैसे उधार देने की गलती न करें. इस दिन रुपए-पैसे का लेन-देन करने से घर में पूरे साल धन की कमी रहती है. ऐसा करने से घर की सुख-समृद्धि में भी कमी आती है

यदि किसी महिला का सिर्फ एक पुत्र है तो उसे होलिका दहन की अग्नि प्रज्वलित नहीं करनी चाहिए. हालांकि अगर किसी महिला की एक पुत्री और एक पुत्री है तो वो होलिका दहन की अग्नि प्रज्वलित कर सकती है.

होलिका दहन के दिन सफेद चीजें खाने से सख्त परहेज करना चाहिए. इस दिन भूलकर भी सफेद चीजों का सेवन न करें. सफेद चीजों से नकारात्मक शक्तियां जल्दी आकर्षित हो जाती हैं. इसलिए सफेद मिठाई, खीर, दूध, दही या बताशे आदि का सेवन न करें.

होलिका दहन में आम, वट और पीपल की लकड़ी जलाना बेहद अशुभ समझा जाता है. दरअसल इस मौसम में इन तीनों ही पेड़ों में नई कोपलें आने लगती हैं, इसलिए इन्हें जलाना सही नहीं माना जाता है. आप गूलर या अरंड के पेड़ की लकड़ी का ही इस्तेमाल करें. इसके अलावा उपले का भी प्रयोग कर सकते हैं.

ज्योतिर्विद के मुताबिक, होलिका दहन के दिन महिलाओं को सिर ढककर ही रहना चाहिए. वे चाहें तो अपने पुत्र की दीर्घायु के लिए इस दिन उपवास भी कर सकती हैं. ऐसा करने से भगवान श्री कृष्ण की विशेष कृपा मिलती है.

होली के दिन अपनी माता का अपमान करने से आपको जीवन में दरिद्रता का सामना करना पड़ सकता है. इस दिन अपनी माता को उपहार दे सकते हैं. ऐसा करने से भगवान श्रीकृष्ण की कृपा से आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा और उन्नति के नए मार्ग प्रशस्त होंगे.

ज्योतिषाचार्य के अनुसार, होलिका दहन के दिन व्यक्ति को अपने परिवार सहित गेहूं और गुड़ से बनी रोटी खानी चाहिए. इस दिन काले चने का सेवन करने से भगवान शनिदेव की विशेष कृपा मिलती है.

COMMENTS