डूंगरपुर में प्रदर्शन के दौरान हिंसा, फायरिंग में एक की मौत

डूंगरपुर में प्रदर्शन के दौरान हिंसा, फायरिंग में एक की मौत  डूंगरपुर में प्रदर्शन के दौरान हिंसा, फायरिंग में एक की मौत nm

राजस्थान के डूंगरपुर में शिक्षक भर्ती-2018 में टीएसपी क्षेत्र के अनारक्षित 1167 पदों को एसटी अभ्यर्थियों से भरने की मांग को लेकर प्रदर्शन जारी है। अब इस प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया है। डूंगरपुर-आसपुर मार्ग पर स्थिति बेकाबू होती जा रही है। रणसागर इलाके के पास उपद्रवियों ने तीन बाइक को आग के हवाले कर दिया। इस दौरान हुई फायरिंग में एक व्यक्ति की मौत हो गई है।

डूंगरपुर में प्रदर्शन के दौरान हिंसा, फायरिंग में एक की मौत prachina in article 1

इतना ही नहीं प्रदर्शनकारियों ने आसपुर-डूंगरपुर मार्ग को ब्लॉक कर दिया है। हालातों को देखते हुए भारी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है। पुलिस ने कई इलाकों में मोर्चा संभाला हुआ है। बताया जा रहा है कि आसपुर रोड के बाद सागवाड़ा रोड को भी बंद कर दिया गया है।
राष्ट्रीय राजमार्ग पर फिलहाल शांति है। वहीं मामले को सुलझाने के लिए सरकार हरकत में आ गई है। उदयपुर से 35 किलोमीटर दूर परसाद में टीएडी मंत्री अर्जुन बामणिया और अभ्यर्थियों के बीच बातचीत जारी है। बैठक के बाद सुलह होने की उम्मीद है। बैठक सीडब्ल्यूसी सदस्य रघुवीर मीणा के निवास पर बैठक हो रही है।

अशोक गहलोत ने टीएडी मंत्री और विधायकों संग की चर्चा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने डूंगरपुर हिंसा मामले का समाधान निकालने के लिए टीएडी मंत्री अर्जुन बामणिया के साथ डूंगरपुर जिले के विधायकों से चर्चा की। बैठक में मंत्री और विधायकों को आंदोलनकारियों से संपर्क करके उन्हें बातचीत के लिए मनाने की रणनीति पर चर्चा की गई। बैठक के बाद टीएडी मंत्री ने कहा कि सरकार आंदोलनकारियों युवाओं से बातचीत करने को तैयार है।

युवाओं को कुछ लोगों ने बहका दिया है। सरकार कानून के अनुसार उनकी मांगों का हल निकालने और बातचीत के लिए तैयार है। वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला का कहना है कि हिंसा किसी बात का समाधान नहीं है।

 

COMMENTS